खेल

मैच के दौरान नो बॉल पर होने वाले विवाद को खत्म करने का ढूंढ़ लिया रास्ता

बीसीसीआई के मुख्यालय में आईपीएल गवर्निग काउंसिल की बैठक हुई

मुंबई: मैच के दौरान नो बॉल पर होने वाले विवाद को खत्म करने का रास्ता भी ढूंढ़ लिया गया है. ‘पॉवर प्लेयर’ नियम के तहत टीम मैच में कभी भी विकेट गिरने के बाद या ओवर खत्म के बाद खिलाड़ी को बदल सकती हैं.

सूत्रों ने कहा कि ‘पॉवर प्लेयर’ पर कोई भी अंतिम फैसला लेने से पहले आगे इस पर और ज्यादा विचार किया जाएगा. उन्होंने मंगलवार को कहा, ‘आगामी सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में इस नियम को लागू करना सही होता. लेकिन अब इसकी संभावना ज्यादा नहीं है. सीधे आईपीएल (IPL) में इसका प्रयोग करने से पहले हमें इस पर और ज्यादा चर्चा करना होगा.’

दरअसल भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के मुख्यालय में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की गवर्निग काउंसिल की बैठक हुई. इसमें आईपीएल के अगले संस्करण में ‘पॉवर प्लेयर’ नियम लाने पर भी विचार किया गया. हालांकि इस बारे में किसी अंतिम निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सका.

आईपीएल चेयरमैन बृजेश पटेल की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में नो बॉल चेक करने के लिए एक अतिरिक्त अंपायर लाने पर भी चर्चा की गई. गवर्निग काउंसिल के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘अगर सब कुछ ठीक रहता है तो आईपीएल के अगले संस्करण से नो बॉल चेक करने के लिए दो नियमित अंपायरों के अलावा एक अतिरिक्त अंपायर देखने को मिल सकता है.’

उन्होंने कहा, ‘हम तकनीक का इस्तेमाल करना चाहते हैं. केवल नो बॉल की निगरानी करने के लिए हमारे पास अंपायर है. यहां भी एक अंपायर होगा, जोकि केवल नो बॉल पर ध्यान रखेगा और फिर थर्ड और फोर्थ अंपायर नहीं होगा.’ यह पूछे जाने पर कि आईपीएल की नीलामी कब होगी, उन्होंने कहा कि नीलामी 19 दिसंबर को कोलकाता में होगी.

Tags
Back to top button