परिहार बंधुओं की हत्या में दो आतंकियों समेत चार गिरफ्तार

जम्मू के किश्तवाड़ में भाजपा के प्रदेश सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजीत परिहार की हत्या के मामले को राज्य पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है।

दिवाली से पहले लश्कर आतंकियों का दंगा कराने का था इरादा

जम्मू।  पुलिस ने इन हत्याओं के मामले में दो आतंकियों और दो ओवर ग्राउंड वर्करों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें दोनों आतंकी दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले और ओजीडब्ल्यू किश्तवाड़ कस्बे के रहने वाले हैं। दोनों ओजीडब्ल्यू सरकारी मुलाजिम बताए जा रहे हैं।

किश्तवाड़ में एक नंवबर को परिहार बंधुओं की संदिग्ध आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। वारदात के समय दोनों भाई दुकान बंद कर पैदल ही किश्तवाड़ स्थित अपने घर की ओर जा रहे थे।

जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिह जम्मू में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हत्या के मकसद का खुलासा कर सकते हैं। संभावना जताई जा रही है कि दोनों आंतकियों और उनके दो ओवर ग्राउंड वर्करों को प्रेस कांफ्रेस में पेश किया जा सकता है।

सूत्रों के अनुसार, किश्तवाड़ कस्बे में जिन दो ओवर ग्राउंड वर्करों को गिरफ्तार किया गया है, वे सरकारी मुलाजिम हैं।

इनमें से एक खाद्य आपूर्ति विभाग में कार्यरत है। ये दोनों किश्तवाड़ कस्बे के ही रहने वाले हैं। सूत्रों ने यह भी दावा किया है कि लश्कर-ए-तैयबा के पाकिस्तान में बैठे सरगना हाफिज सईद ने दक्षिण कश्मीर में सक्रिय लश्कर के आतंकियों को परिहार बंधुओं की हत्या का जिम्मा सौंपा था। ताकि जम्मू-कश्मीर के पंचायत चुनाव सहित देशभर में दीपावली से पहले सांप्रदायिक तनाव और दंगे भड़काए जा सकें।

Back to top button