छत्तीसगढ़

पथरिया में चार दिवसीय सांकेतिक भाषा प्रशिक्षण कार्यक्रम

मनीष शर्मा:

मुंगेली/पथरिया: सर्व शिक्षा अभियान जिला मुंगेली के तत्वाधान मेें विकासखण्ड स्त्रोत केन्द्र पथरिया में 04 दिवसीय सांकेतिक भाषा का प्रशिक्षण आयोजित किया गया, जहाॅ पर ऐसे शालाओं के शिक्षकों को प्रशिक्षण गया जहाॅ दिव्यांग बच्चे अध्ययनरत है।

प्रशिक्षण का शुभारंभ विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी यू.एल.जायसवाल, सहायक विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी यतेन्द्र भास्कर, एवं रविपाल राठौर, बीआरसीसी एस.के. उपाध्याय, बीआरपी प्रिया यादव की उपस्थिति में माॅ सरस्वती की पूजन के साथ किया गया।

उक्त प्रशिक्षण में सहायक जिला मिशन समन्वयक ए.के. कश्यप ने अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सकारात्मक सोच के साथ हमें दिव्यांग बच्चों को अच्छी शिक्षा प्रदान करनी चाहिए तथा उनके प्रति सामान्य बच्चों की तरह व्यवहार करनी चाहिए।

सांकेतिक भाषा में उपस्थित शिक्षकों से वार्तालाप

प्रशिक्षण के दौरान दिव्यांग बच्ची सबा परवीन भी उपस्थित रही जो कि मूक बधिर है उनके द्वारा सांकेतिक भाषा में उपस्थित शिक्षकों से वार्तालाप किया गया। बच्ची की आर्थिक स्थिति अच्छी नही होने के कारण उच्च शिक्षा ग्रहण नही कर पा रही थी इस स्थिति को देखते हुए उपस्थित शिक्षकों ने बच्ची के आगे की पढ़ाई के लिए के द्वारा 5700 रू. का आर्थिक सहयोग किया।

प्रशिक्षण में जिला मिशन समन्वयक वी.पी.सिंह, सहायक जिला मिशन समन्वयक पी.सी. दिव्य एवं यू.के.शर्मा उपस्थित रहे, इस अवसर पर जिला मिशन समन्वयक वी.पी.सिंह ने कहा कि दिव्यांग बच्चों को शिक्षा देना महत्वपूर्ण कार्य है और आप अपनी जिम्मेदारी को जितने ही अच्छे ढंग से निभायंगे आपको उतना ही आत्म संतुष्टि प्राप्त होगी साथ ही आपके द्वारा किया गया प्रयास बच्चों के भविष्य बन जायेगा।

इस प्रशिक्षण में प्रमोद यादव, बृजमोहन सोनवानी, अमित सोनी, सर्वेश त्रिवेदी, श्रद्धा साव, विद्या शर्मा सहित विकासखण्ड के 36 शिक्षक/शिक्षिकाऐ उपस्थित रहे। उक्त 04 दिवसीय प्रशिक्षण में बीआरपी प्रिया यादव ने मास्टर ट्रेनर के रूप में बहुत ही अच्छे ढंग से प्रशिक्षण दिया तथा सांकेतिक भाषा के महत्व व बच्चों को होने वाले लाभ के बारे मेें शिक्षको को अवगत कराया।

प्रशिक्षण का समापन दिनांक 14/09/2019 को सायं 4.30 पर राष्ट्रगान के साथ किया गया। प्रशिक्षण को सफल बनाने में रामेश्वर राजपूत, धर्मपाल सिंह एवं कुंजबिहारी यादव का विशेष योगदान रहा।

Tags
Back to top button