राज्य

चार दिनों की लगातार बारिश, आखिरकार बिहार में लोगों ने राहत की सांस

एनडीआरएफ की टीम मोटर वोट के जरिए लोगों का रेस्क्यू कर रही

पटना: बिहार में चार दिनों की लगातार बारिश से 95 प्रखंड 464 पंचायत 758 गांव 16,56607 जनसंख्या प्रभावित हुई है. प्रभावित लोगों के लिए 17 राहत शिविर 226 सामुदायिक रसोई बनाई गई है.1 35 नाव 18 एनडीआरएफ-एसडीआरएफ की टीम राहत के लिए लगाया गया है.

बारिश खत्म होने के एक दिन बाद भी पटना में राजेंद्र नगर, कंकड़बाग, भूतनाथ रोड, कांटी फैक्ट्री रोड, मलाही पकड़ी, एसके पुरी में अधिक जलजमाव की स्थिति बनी हुई है. दानापुर और गोला रोड में लोग पानी की वजह से घरों में कैद हो गए हैं.

वहीं, कटिहार में महेशपुर कोशी तटबंध टूट गया है. कोसी नदी के जलस्तर हुई वृद्धि पर बांध टूट गया है. लगभग 7 हजार आबादी प्रभावित है. बारिश के कारण लगभग दो दर्जन जिले प्रभावित हैं. शिवहर, सितामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण,

पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, मुंगेर, भागलपुर, कटिहार, पूर्णिया, अररिया, किशनगंज, सुपौल, मधेपुरा, वैशाली, सारण, सीवान और गोपालगंज में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है.

बारिश से सबसे ज्यादा परेशानी खासकर पटनावासियों को हुई है. एनडीआरएफ की टीम मोटर वोट के जरिए लोगों का रेस्क्यू कर रही है. राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को भी रेस्क्यू किया गया. इसी बीच बीजेपी के गिरिराज सिंह सहित कई नेता भी बिना नाम लिए सीएम नीतीश कुमार पर तंज कस चुके हैं.

Tags
Back to top button