कोरबा : गैर संचारी रोगों पर नि:शुल्क शिविर आज

कोरबा। गैर संचारी रोगों के अंतर्गत क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) के लिए कोरबा जिले को शामिल किया गया है। सरकार ने नोवार्टिस के साथ एक ओएमयू साइन किया है। स्वास्थ्य विभाग एवं नोवार्टिस के तत्वावधान में जिला अस्पताल कोरबा में 25 मई को वृहद कैंप लगाया जा रहा है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पीएस सिसोदिया ने बताया कि कैंप में डायबेटिक, रेक्टिनोपैथी, सीओपीडी बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों की स्वास्थ्य की जांच निःशुल्क की जाएगी एवं उनके विभिन्न लैब जांच मुफ्त में की जाएगी।

जैसे एचबीए1सी टेस्ट, स्पायरोमेंट्री आदि टेस्ट का शुल्क निजी अस्पतालों में बहुत अधिक होता है, जो शिविर में मुफ्त की जा रही है। गैर संचारी रोग अंर्तगत प्रत्येक व्यक्ति को 30 वर्ष की आयु के बाद साल में कम से कम दो बार अपना रक्तचाप, बीपी की जांच अवश्य कराना चाहिए। जिन लोगों के परिवार में किसी की उच्च रक्तचाप का इतिहास है, उन्हें 20 वर्ष की आयु के बाद से ही प्रति वर्ष शुगर एवं रक्तचाप की जांच करानी चाहिए।

नियमित उपचार से मधुमेह रोग को बढ़ने से एवं जटिलता विकसित होने से रोका जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार जिले में 30 वर्ष या उससे ज्यादा की उम्र के 20 फीसदी लोग श्वसन संबंधित बीमारियों से पीड़ित हो रहे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से इन बीमारियों से संबंधित हर प्रकार के टेस्ट की सुविधा निःशुल्क प्रदान की जाएगी। इनमें पल्मोनरी फंक्शन टेस्ट भी फ्री होगा, जिसके लिए कंपनी की अपनी मशीन भी अस्पताल में रखी जाएगी। जांच के साथ इलाज व दवाइयां भी निःशुल्क प्रदान की जाएगी।

advt
Back to top button