छत्तीसगढ़

9 अगस्त से कैट देश भर में शुरू करेगा चीन भारत छोड़ो अभियान

चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अपने राष्ट्रीय अभियान “ भारतीय सामान - हमारा अभिमान “

रायपुर : कन्फेडरेशन ऑफ आल इंड़िया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मगेलाल मालू, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, प्रदेश महामंत्री जितेन्द्र दोशी, प्रदेश कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल एवं प्रदेश प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अपने राष्ट्रीय अभियान “ भारतीय सामान – हमारा अभिमान “ के अंतर्गत कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज (कैट) के बैनर तले भारत छोड़ो आंदोलन के दिन आगामी 9 अगस्त को देश भर के व्यापारी संगठन चीन के खिलाफ एक नए आंदोलन का बिगुल बजाते हुए “ चीन भारत छोड़ो “ का नारा देंगे और सभी राज्यों के लगभग 600 शहरों में सामाजिक दूरी एवं सुरक्षा के सभी नियम का पालन करते हुए सार्वजनिक प्रदर्शन करेंगे।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर पारवानी ने कहा की जिस तरह से चीन ने एक लम्बी योजना के तहत गत 20 वर्षों में भारत के रीटेल बाजार पर चीनी उत्पादों के द्वारा कब्जा कर लिया है उसको देखते हुए तथा बदली परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए चीनी उत्पादों से देश के रीटेल बाजार को आजाद कर आत्मनिर्भर भारतीय बाजार बनाना बहुत जरूरी है और इस वजह से चीन पर अपनी निर्भरता को कम करने के लिए नेट ने चीन भारत छोड़ो की आवाज बुलंद करने का आवाहन किया है।

उन्होंने कहा की हाल ही में रक्षाबंधन के त्यौहार की हिंदुस्तानी राखी के रूप में मनाने के कैट के अभियान को प्रदेश एवं देश के लोगों ने समर्थन दिया और चीनी राखी का पूर्ण रूप से बहिष्कार किया जिससे चीन को इस बार राखी व्यापार से 4 हजार करोड़ रुपए में व्यापार की चपत लगाई है जहां हर साल प्रदेश में लगभग 60 से 70 करोड़ की राखी चीन से आयात की जाती थी, प्रदेश में इस बार इसका पूरा विरोध किया गया और चीन से कोई राखी नहीं मंगाई गई।

चीनी वस्तुओं के बहिष्कार

चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के अपने बड़े अभियान के तहत कन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) द्वारा प्रदेश भर में इस बार राखी के पर्व को भारतीय राखी के रूप में मनाने के इस अभियान को बड़ी सफलता मिली। उससे यह स्पष्ट है की यदि देश के लोग संकल्प लेकर चीनी सामान का बहिष्कार करें तो भारत का व्यापार बहुत जल्द चीन से आजादी पा सकता है और कैट के नेतृत्व में देश के 7 करोड़ व्यापारियों ने यह संकल्प मजबूती से लिया हुआ है।

पारवानी ने आज यह घोषणा की की देश में मनाए जाने वाले आगामी सभी त्योहार भारतीय सामान जा उपयोग कर ही मनाए जाएँगे और चीन ने किसी में किसी भी सामान का कोई उपयोग नहीं होगा । उन्होंने बताया की आगामी त्योहारों में जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, नवरात्रि, दशहरा, धनतेरस, दिवाली , भैया दूज, छठ पूजा और तुलसी विवाह शामिल हैं और ये सभी त्योहार पूर्ण रूप से भारतीय त्योहारों में रूप में मनाए जाएँगे और खास तौर पर इस वर्ष की दिवाली देश भर में हिंदुस्तानी दिवाली के रूप में मनाई जाएगी। कैट ने इसके लिए व्यापक तैय्यारियाँ भी शुरू कर दी हैं।

पारवानी ने बताया की कैट चीन भारत छोड़ो अभियान के अंतर्गत सरकार से माँग की जाएगी की भारत में 5 जी नेट्वर्क लागू करने में चीनी कम्पनी हुवावे को तुरंत प्रतिबंधित किया जाए तथा जिन चीनी कम्पनियों ने देश के स्टार्टअप इकाइयों में निवेश किया है , ऐसे चीनी निवेश को वापिस किया जाए और ऐसे स्टार्टअप को उसके बदले में आवश्यक वित्तीय सहायता मुहैया कराई जाए। जहां सरकार ने 59 चीनी ऐप को भारत में प्रतिबंधित किया है उसी के अनुसार बाकी बचे चीनी ऐप को भी सरकार तुरंत प्रतिबंधित करे।

केंद्र सरकार की प्रशंसा

उन्होंने केंद्र सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा की सरकार ने इस मुद्दे की गम्भीरता समझते हुए ऐसे सभी आवश्यक कदम उठाएँ है जिनसे सरकार की विभिन्न परियोजनाओं में चीनी कम्पनियों की भागीदारी को खारिज किया है , उसी तर्ज पर सीमा से सटे क्षेत्रों, सुरक्षा से सम्बंधित क्षेत्रों, हाइवे तथा अन्य परियोजनाओं के निर्माण में ऐसी सभी चीनी मशीनों को प्रतिबंधित किया जाए जिसमें आईओटी डिवाइस लगी हैं क्योंकि यह डिवाइस चीन स्थित कम्पनियों को यह सूचित कर सकती हैं की उक्त मशीनों के द्वारा क्या काम चल रहा है, कितनी गहराई तक काम हो रहा है जैसी महत्वपूर्ण सूचनाएँ जिनका दुरुपयोग हो सकता है । देश की सुरक्षा के लिए उपरोक्त सभी कदम उठाने आवश्यक हैं । कैट ने कहा की चीन भारत छोड़ो अभियान की मार्फत पूरे देश में व्यापारियों और अन्य लोगों को जागरूक करने का अभियान देश भर में 9 अगस्त से शुरू हो जाएगा ।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button