बिज़नेस

अपना काम जिम्मेदारी से निभाएं वित्तीय निगरानी संस्थाएं : प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि वित्तीय अनियमितताएं करने वालों के खिलाफ उनकी सरकार कड़ी कार्रवाई करेगी और जनता के धन की लूट को बर्दाश्त नहीं करेगी। पीएम मोदी ने वित्तीय निगरानी संस्थाओं से अपना काम जिम्मेदारी एवं ईमानदारी से करने के लिए कहा। पीएम मोदी ने यह बात इकोनॉमिक टाइम्स के ग्लोबल बिजनेस समिट में कही।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में पंजाब नेशनल बैंक के 11 हजार 400 करोड़ रुपए के घोटाले का नाम तो नहीं लिया लेकिन उनका इशारा साफ तौर पर पीएनबी फ्राड की तरफ था। प्रधानमंत्री ने इस तरह के घोटालों को रोकने के लिए वित्तीय संस्थाओं के प्रबंधन के और वित्तीय निगरानी संस्थाओं को अपना काम ईमानदारी और मेहनत से करने के लिए कहा।

यह सरकार जनता के धन की लूट बर्दाश्त नहीं करेगी : प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि वित्तीय अनियमितताओं के खिलाफ यह सरकार कड़ी कार्रवाई करती आई है और आगे भी वह कड़े कदम उठाना जारी रखेगी। यह सरकार जनता के धन की लूट बर्दाश्त नहीं करेगी।’ पीएनबी फ्राड मामले में आरोपी आभूषण कारोबारी नीरव मोदी का नाम लिए बगैर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वित्तीय संस्थाओं के प्रबंधन, ऑडिटर्स एवं नियामक संस्थाओं का अपना काम पूरी प्रतिबद्धता से करना होगा।

उन्होंने कहा, ‘जिन लोगों को नियम एवं नीतियां बनाने का काम सौंपा गया है, मैं उनसे अपील करना चाहता हूं कि वे अपना काम पूरी मेहनत एवं प्रतिबद्धता के साथ करें।’ पीएम ने कहा कि वित्तीय संस्थाओं की निगरानी की जिम्मेदारी जिनके पास है उन्हें अपना काम पूरी ईमानदारी से करनी चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा ‘चार साल पहले पूरी दुनिया में जब भारत की अर्थव्यवस्था की चर्चा होती थी, तो कहा जाता था फ्रैजल फाइव। आज फ्रैजल फाइव की नहीं, भारत के फाइव ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लक्ष्य की चर्चा होती है। अब दुनिया भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहती है।’

पीएम मोदी ने इस दौरान लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि इस तरह के कार्यक्रमों में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराने पर जो सकारात्मक इकोनॉमिक असर देश पर पड़ेगा, उसकी भी चर्चा होनी चाहिए।’

Back to top button