जी-20 शिखर सम्‍मेलन : भारत, जापान और अमेरिका की त्रिपक्षीय बैठक

प्रधानमंत्री मोदी, ट्रंप और शिंजो आबे के बीच होगी बातचीत

नई दिल्‍ली :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ-साथ जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से भी बातचीत होगी।

अमेरिका और चीन में पिछले कुछ समय से जारी तनाव के बीच भारत, जापान और अमेरिका की त्रिपक्षीय बैठक होने जा रही है, जो अंतरराष्‍ट्रीय संबंधों, खासकर हिंद-प्रशांत क्षेत्र की राजनीति के लिए बेहद खास है।

यह त्रिपक्षीय बैठक होगी, जिसमें आखिरी क्षणों में बदलाव किया गया है। इससे पहले जी-20 शिखर सम्‍मेलन से इतर ट्रंप और आबे की ही द्विपक्षीय बैठक होने वाली थी, लेकिन आखिरी क्षणों में इसमें बदलाव करते हुए इसे त्रिपक्षीय रूप दिया।

अमेरिका ने अर्जेंटीना में जी-20 शिखर सम्‍मेलन से इतर ट्रंप और आबे की द्विपक्षीय मुलाकात में पीएम नरेंद्र मोदी के भी शामिल होने का ऐलान मंगलवार को किया।

व्हाइट हाउस की ओर से मंगलवार को जारी बयान में कहा गया कि ट्रंप और आबे की प्रस्‍तावित द्विपक्षीय बैठक में पीएम मोदी भी शामिल होंगे, जिससे यह बैठक त्रिपक्षीय हो जाएगी।

जी-20 शिखर सम्‍मेलन के दौरान ट्रंप 30 नवंबर और 01 दिसंबर को इसमें शामिल होने वाले दुनिया के नेताओं के साथ अलग-अलग मुलाकात और आपसी संबंधों पर चर्चा करेंगे।

पीएम मोदी की भी इस दौरान दुनिया के कई नेताओं से मुलाकात होगी। वह चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग से भी मिलेंगे। पिछले 7 महीनों में यह शी के साथ मोदी की चौथी मुलाकात होगी।

पीएम मोदी यहां संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुटेरेस, अर्जेंटीना के राष्ट्रपति मैरिसियो मैक्री, चिली के राष्ट्रपति सेबास्टियन पिनेरा, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से भी मिलेंगे। पीएम मोदी की इस दौरान स्पेन, जमैका और नीदरलैंड्स के प्रधानमंत्रियों और यूरोपीय संघ तथा यूरोपीय परिषद के अध्यक्षों से भी मुलाकात होगी।

जी-20 शिखर बैठक में दुनिया की 20 प्रमुख अर्थव्यवस्‍था वाले देशों के नेता भाग लेंगे, लेकिन सभी की निगाहें ट्रंप की चीन के राष्ट्रपति शी और रूस के राष्ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन के साथ संभावित मुलाकातों पर भी टिकी होंगी।

व्‍हाइट हाउस ने जहां पूर्व में पुतिन और शी के साथ भी ट्रंप की मुलाकातों का जिक्र किया, वहीं खुद ट्रंप ने बाद में कहा कि यूक्रेन संघर्ष के कारण वह पुतिन के साथ अपनी बैठक रद्द कर सकते हैं। हालांकि रूस ने कहा कि उसे अब भी पुतिन और ट्रंप की बैठक की उम्‍मीद है।

1
Back to top button