छत्तीसगढ़

जी.आर. राणा ने विशेष पिछड़ी जनजातियों की विकास योजना की समीक्षा

रायपुर : छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री जी.आर. राणा ने कल यहां विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए चल रही विकास योजनाओं की समीक्षा की। विशेष पिछड़ी जनजातियों में कमार, भुंजिया, बैगा, पहाड़ी कोरवा, पंडो एवं अबूझमाड़िया शामिल हैं।
अध्यक्ष श्री राणा ने बताया कि विशेष पिछड़ी जनजातियों से संबंधित विकास योजनाओं के लिए विशेष पिछड़ी जनजाति अभिकरण बनाया गया है। विशेष पिछड़ी जनजातियों के आर्थिक, शैक्षणिक एवं सामाजिक विकास के लिए विगत लगभग 39 वर्षों से बजट का प्रावधान किया गया है। विशेष पिछड़ी जनजाति वर्ग के लोगों को अन्य जनजातियों के समान बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने उनके लिए शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार की व्यवस्था करने पहल की गई है। श्री राणा ने कहा कि इन जनजाति वर्ग के लोगों के आर्थिक उत्थान के लिए और अधिक संवेदनशीलता के साथ कार्य करने की जरूरत है।
बैठक में संचालक आदिम जाति कल्याण संचालनालय श्री जी.आर. चुरेन्द्र ने विभागीय अधिकारियों को विशेष पिछड़ी जनजाति वर्ग की विकास योजनाओं के लिए लक्ष्य बनाकर कार्य करने के निर्देश दिए। बैठक में छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य श्री विकास मरकाम, आयुक्त सचिव श्री एच.के.एस. सिंह उइके, सीटीडी श्री परिहार सहित मंडल संयोजक, क्षेत्र संयोजक, छत्तीसगढ़ विशेष पिछड़ी जनजाति अभिकरण के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *