गांधीजी हमारे नैतिक पथ-प्रदर्शक : राष्ट्रपति कोविंद

दो अक्टूबर से महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के समारोह शुरू हो जाएंगे।

नई दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज कहा कि महात्मा गांधी को राजनीति और स्वाधीनता की सीमित परिभाषाएं मंजूर नहीं थीं

महात्मा गांधी देश के नैतिक पथ-प्रदर्शक रहे हैं, आज भी हैं, और आगे भी रहेंगे। कोविंद ने कहा कि स्वाधीनता दिवस का हमेशा ही विशेष महत्व होता है,

लेकिन इस बार एक खास बात यह है कि कुछ ही सप्ताह बाद दो अक्टूबर से महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के समारोह शुरू हो जाएंगे।

कोविंद ने कहा, ‘गांधीजी ने केवल हमारे स्वाधीनता संग्राम का नेतृत्व ही नहीं किया, बल्कि वह हमारे नैतिक पथ-प्रदर्शक भी थे और सदैव रहेंगे।

भारत के राष्ट्रपति के रूप में मुझे अफ्रीका के देशों की यात्रा करने का सुअवसर प्राप्त हुआ। विश्व में, हर जगह, जहां-जहां पर मैं गया, सम्पूर्ण मानवता के आदर्श के रूप में गांधीजी को सम्मान के साथ स्मरण किया जाता है।’

राष्ट्रपति ने कहा, ‘हमें गांधीजी के विचारों की गहराई को समझने का प्रयास करना होगा। उन्हें राजनीति और स्वाधीनता की सीमित परिभाषाएं मंजूर नहीं थीं।

Tags
Back to top button