क्राइमराष्ट्रीय

अवैध नागरिकों का फर्जी दस्तावेज बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

साकीनाका में दो बांग्लादेशी नागरिक एवं दो एजेंट गिरफ्तार

बांग्लादेश: मुंबई पुलिस ने साकीनाका में अवैध नागरिकों का फर्जी दस्तावेज बनाने वाले दो बांग्लादेशी नागरिकों एवं दो एजेंटों को गिरफ्तार किया है। हैरान करने वाली बात है कि पुलिस ने एक एजेंट के पास से असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के दो विधायकों के लेटर हेड मिले हैं।

आशंका जताई गई है कि विधायकों के इन लेटरहेडर का इस्तेमाल फर्जी कागजात बनाने के लिए होता था। एआईएमआईएम के जिन विधायकों के लेटर हेड मिले हैं, उनके नाम मुफ्ती मोहम्मद इस्माईल और शेख आसिफ शेख रसीद है।

बताया जा रहा है कि एजेंट के पास से 5 अन्य विधायकों के लेटर हेड भी मिले हैं लेकिन अभी इनके नाम का खुलासा नहीं किया गया है। सवाल है कि ये लेटर हेड असली हैं या नकली है, इसकी जाँच होनी अभी बाकी है। जाँच में यदि ये लेटर हेड सही साबित होते हैं तो एआईएमआईएम के इन विधायकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

फर्जी दस्तावेज का मामला सामने आने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने इसे गंभीर बात बताई है। भाजपा ने विधायकों के लेटर हेड की जाँच कराए जाने की माँग की है। भाजपा ने कहा है कि इस पूरे मामले की जाँच राष्ट्रीय जाँच एजेंसी से करानी चाहिए।

पुलिस ने नाशिक मालेगाँव के एक एजेंट के पास से 155 आधार कार्ड, 34 पासपोर्ट, 28 पैनकार्ड, 8 राशन कार्ड, 187 बैंक और पोस्टल डिपार्टमेंट के पासबुक, 19 रबर स्टैम्प और स्कूल छोड़ने के 29 नकली लीविंग सर्टिफिकेट बरामद किए हैं। भाजपा प्रवक्ता अतुल भटखालकर ने कहा कि इस मामले की जल्द से जल्द जाँच कर दोषियों को सलाखों के पीछे भेजा जाना चाहिए।

एमआईएमआईएम विधायकों के लेटर हेड की जाँच होनी चाहिए। उन्‍होंने कहा है कि 24 घंटे में इन दोनों विधायकों के लेटर पैड की जाँच की जाए औए इनकी गिरफ्तारी हो। साथ ही इस केस को NIA को सौंपा जाए, यह एक बड़ा रैकेट है जो कि देश मे चल रहा है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button