छत्तीसगढ़हेल्थ

गरियाबंद : जिला समन्वय समिति की बैठक सम्पन्न

राष्ट्रीय फाईलेरिया उन्मुलन कार्यक्रम एवं राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस

गरियाबंद: कलेक्टर श्याम धावड़े की अध्यक्षता में विगत दिवस कलेक्टोरेड सभाकक्ष में राष्ट्रीय फाईलेरिया उन्मुलन कार्यक्रम एवं राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के संबंध में जिला समन्वय समिति की बैठक आयोजित की गई।

कलेक्टर धावड़े ने स्वास्थ्य अधिकारियों को अन्य विभागों के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर जिले में उक्त कार्यक्रम का क्रियान्वयन बेहतर ढंग से करने के निर्देश दिये। सी.एम.एच.ओ. द्वारा 24 से 26 फरवरी 2020 को सामुहिक दवा सेवन कराने एवं 29 फरवरी तक मॉप-अप राउंड गतिविधियां के संबंध में जानकारी दी गई।

बैठक में डॉ.एन.आर. नवरत्न के बताया कि राष्ट्रीय फाईलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के सफलतापूवर्क क्रियान्वयन के लिए स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग तथा शिक्षा विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी द्वारा आपसी समन्वय से पल्स पोलियों की भांति 24 से 26 फरवरी 2020 तक आंगनबाड़ी केन्द्रों में बूथ स्तर पर सामुहिक दवा सेवन गतिविधि में 2 वर्ष से अधिक सभी आयु वर्ग के हितग्राहियों को डॉट्स पद्धति अर्थात समक्ष में दवा सेवन कराया जायेगा।

जिसमें डी.ई.सी.की गोली उम्रवार 2 से 5 वर्ष के बच्चों को एक गोली, 06 से 14 वर्ष के बच्चों को 2 गोली, 15 से 19 वर्ष को 3 गोली तथा 20 वर्ष से अधिक आयु के हितग्राही को 3 गोली दिया जाना है। एक वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाओं, अति वृद्ध व गंभीर बीमारीयों से पीड़ितों को यह दवा नहीं खिलाई जायेगी।

इसी प्रकार 27 से 29 फरवरी 2020 तक घर-घर जाकर छुटे हुए हितग्राहियों को फाईलेरिया रोधी डी.ई.सी की गोली का सेवन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा मितानिनों द्वारा कराया जायेगा। जिले भर में कुल 5 लाख 82 हजार 330 लोगों को (हाथी पांव) फाईलेरिया रोधी डी.ई.सी की गोली सेवन कराये जाने का लक्ष्य रखा गया है।

साथ ही राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस जिलेे के सभी अंगनबाड़ी केन्द्रों, शासकीय एवं अनुदान प्राप्त शालाओं, निजी स्कूलों, अनुदान प्राप्त निजी स्कूलों, तकनीकी शिक्षा संस्थान, महाविद्यालयों, आई.टी.आई., पालिटेक्निक कालेज, आश्रम-छात्रावास, के एक वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों को कृमि नाशक एल्बेन्डाजॉल की निःशुल्क गोली खिलाई जायेगी।

जिसमें एक से 2 वर्ष के बच्चों को आधी गोली पीसकर आंगनबाड़ी केन्द्रों में एवं 2 से 3 वर्ष के बच्चों को एक गोली पीस करके एवं 3 से 19 वर्ष तक के बच्चों को एक गोली चबाकर खिलाई जायेगी। ऐसे बच्चें जिन्हें गोली नही खिलाई गई है, उन्हें मॉप-अप दिवस (28 फरवरी 2020) को किया जाना है। गरियाबंद जिला अंतर्गत लगभग 217661 (दो लाख सत्रह हजार छः सौ इकसठ) बच्चों को एल्बेन्डाजोल की गोली खिलाए जाने का लक्ष्य रखा गया है।

सी.एम.एच.ओ. डॉ. नवरत्न ने बताया कि उक्त राष्ट्रीय कार्यक्रम हेतु जिले के सभी विकासखण्डों में रैपिड रिस्पांस दल का गठन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर किया गया है। ताकि सामूहिक दवा सेवन के पश्चात् किसी प्रकार के प्रतिकूल प्रतिक्रिया होने पर अतिशीघ्र उपचार किया जा सकें। साथ ही सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों, स्कूलों से 108 एम्बुलेंस सेवा द्वारा पीड़ितों को निकट के स्वास्थ्य केन्द्र में रिफर करने के निर्देश दिए गए है।

कार्यक्रमों की गुणवत्ता को बनाए रखने हेतु जिला, विकासखण्ड तथा सेक्टर स्तर पर मॉनिटरिंग हेतु पर्यवेक्षक दल गठित करने के निर्देश दिए गए है। बैठक में जिला पंचायत सीईओ विनय कुमार लंगेह, अपर कलेक्टर के.के बेहार,एस.डीएम गरियाबंद जे.आर. चौरसिया, एसडीएम देवभोग भूपेन्द्र साहू, एसडीएम मैनपुर अंकिता सोम, डिप्टी कलेक्टर,निर्भय साहू और ऋषा ठाकुर, सहायक आयुक्त एल.आर कुर्रे सहित सभी जनपद सीईओ और समस्त जिला अधिकारी उपस्थित थे।

Tags
Back to top button