यहां एक ही कमरे में होती है पहली से पांचवीं तक की पढ़ाई

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में नया शिक्षा सत्र शुरू होने के बाद भी स्कूलों में अव्यवस्थाओं का आलम जस का तस बना हुआ है. जिले के अधिकांश स्कूल भवन और शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं.

ताजा मामला देवभोग के सरगीगुडा प्राथमिक स्कूल का है. इस बारे में स्कूल शिक्षक जोगेश जायसवाल ने बताया कि यहां दो कमरों का स्कूल भवन तो है, लेकिन एक कमरे में राशन दुकान संचालित है. इस कारण पहली कक्षा से पांचवीं कक्षा तक की पढ़ाई एक ही कमरे में संचालित हो रही हैं.

उन्होंने कहा कि स्कूल में दो शिक्षकों की नियुक्ति होने के बावजूद एक शिक्षक की पदस्थापना में दूसरे स्कूल भेज दिया गया है. इस कारण एक शिक्षक को ही पांचों कक्षाओं के 70 बच्चों को पढ़ाना पढ़ रहा है.

भवन और शिक्षक की कमी के कारण बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है. सरगीगुडा में अव्यवस्थाओं का ये आलम नया नहीं है, बल्कि पिछले दो साल से स्कूल में पढ़ाई का यही हाल है.

स्कूल में पदस्थ शिक्षक जोगेश जासयवाल ने पिछले साल ही इसकी जानकारी अपने उच्चाधिकारियों को भेज दी थी, लेकिन अधिकारियों ने व्यवस्थाओं को सुधारना तो दूर मामले की जानकारी होने से ही अनभिज्ञता जाहिर कर दी.

वहीं इस बारे में देवभोग के बीईओ प्रदीप शर्मा का कहना है कि उन्हें इस संदर्भ में कोई जानकारी नहीं थी. लेकिन अब जानकारी मिलने पर उन्होंने अपने अधिकारियों को मौके पर भेजकर जांच कराने की बात कही है. उन्होंने कहा कि जांच में तथ्यों के सही पाए जाने के बाद दोषी पाए जाने वाले के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी.

वहीं शिक्षकों की कमी को लेकर कहा कि जल्द ही शिक्षकों के रिक्त पदों पर नए शिक्षकों की नियुक्त कर ली जाएगी.

Back to top button