गरियाबंद : गरियाबंद विकास योजना 2031 प्रारूप का प्रकाशन आगामी 10 वर्षों को ध्यान में रखकर सुनियोजित तरीके से बसाने प्रस्ताव

दावा-आपत्ति व सुझाव 30 सितम्बर तक आमंत्रित

गरियाबंद 31 अगस्त 2021 : गरियाबंद विकास योजना 2031 प्रारूप का प्रकशन आज अधिकारियों, जनप्रतिनिधि एवं नागरिकों के मौजूदगी में किया गया। योजना अंतर्गत आगामी 10 वर्षों के लिए योजना बनाकर गरियाबंद नगर पालिका को विकसित और सुनियोजित तरीके से बसाया जायेगा। इसके अंतर्गत वर्तमान जनसंख्या भूमि की उपलब्धता व अधोसंरचना को ध्यान में रखते हुए विकास एवं भूमि उपयोग के लिए प्रारूप प्रस्तावित किया गया।

जिसके लिए आज दावा -आपत्ति हेतु 30 सितम्बर तक समय-सीमा निर्धारित कर में आमंत्रित किया गया। निवेश अंतर्गत कोई भी सुझाव एवं दावा-आपत्ति जिला कार्यालय के कक्ष क्रमांक 01 में जमा किया जा सकता है। इसके अलावा आम जनता के निरीक्षण के लिए संभागीय आयुक्त कार्यालय रायपुर, कलेक्टर कार्यालय जिला गरियाबंद, संयुक्त संचालक नगर तथा ग्राम निवेश, क्षेत्रीय कार्यालय रायपुर एवं नगर पालिका परिसर कार्यालय गरियाबंद में इसकी प्रति चस्पा किया गया है।

आज यहां जिला कार्यालय में गरियाबंद विकास प्रारूप प्रकाशन के संबंध में बैठक आयोजित की गई, जिसमें गरियाबंद नगर पालिका के अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन, पार्षदगण, एल्डरमेन, एवं आस-पास के 09 गांव – नहरगांव, कोकड़ी, पाथरमोंहदा, भिलाई, मजरकट्टा, आमदी, पारागांव, डोंगरीगांव तथा केशोडार के जनप्रतिनिधि एवं नागरिक शामिल हुए।

गरियाबंद विकास योजना

गरियाबंद विकास योजना प्रारूप में वर्ष 2031 तक के विकास योजना को शामिल किया गया है। बैठक में प्रस्तुतिकरण के माध्यम से वर्तमान निवेश क्षेत्र की स्थिति को दर्शाते हेतु आंकलन किया गया है। बताया कि वर्तमान में आवास के लिए 43.14 प्रतिशत क्षेत्र का उपयोग किया गया है। वहीं वाणिज्यक गतिविधि के लिए 4.32 प्रतिशत तथा परिवहन के लिए 19.18 प्रतिशत, औद्योगिक के लिए 7.36 प्रतिशत आंकलन किया गया है। इस क्षेत्र में आमोद-प्रमोद के लिए 13.79 प्रतिशत भूमि का उपयोग प्रस्तावित किया गया है।

प्रस्ताव में परिवहन विस्तार जैसे- बाई-पास सड़क, पर्यटन विकास, कृषि वन आधारित उद्योग आदि को शामिल किया गया है। नगर एवं ग्राम निवेश क्षेेत्रीय कार्यालय रायपुर के उप संचालक भानूप्रताप पटेल ने बताया कि इस प्रारूप के प्रकाशन के पश्चात 30 दिन के निर्धारित अवधि तक दावा-आपत्ति आमंत्रित किया गया है। दावा-आपत्ति के निराकरण के पश्चात आवश्यक कार्यवाही प्रारंभ होगी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संदीप अग्रवाल, अपर कलेक्टर जे.आर. चौरसिया, सहायक संचालक ऐश्वर्य जायसवाल सहित नगर एवं ग्राम निवेश रायपुर कार्यालय के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button