भ्रष्टाचार के भेंट चढ़ा गुरुर संकरा पहुँच मार्ग जिम्मेदार मौन

बालोद : करोड़ों की सड़क पर चलने का नागरिकों को सौभाग्य प्राप्त होता, उससे पहले ही घटिया स्तर के हुए काम ने इसकी पोल खोल दी है। कई जगह सड़क में दरार पड़ गई है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह कितने दिन टिकेगी। लोग घटिया स्तर के काम का विरोध भी जताया लेकिन निर्माण एजेंसी एक न सुनी वही यह सड़क करीब नो करोड़ की लागत से गुरुर से संकरा क तक 32 किलोमीटर बना हैं जो पहली बरसात भी झेल नही पाई। इस सड़क को एक साल पहले प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत बनाया गया था। जो भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ गया है। जगह जगह सड़क पर दरार पड़ रही है।जिसे ठेकेदार डामर की परत लगा कर भ्रष्टाचार को छुपाने का प्रयास कर रहा हैं।

क्षेत्र का प्रमुख मार्ग
खास बात यह है कि यह सड़क करीब दर्जनों गांवों का आवागमन करने का मुख्य मार्ग है ।और यह एनएच 930 व एनएच 30 को जोड़ता है। लोगों को उम्मीद थी कि अब सड़क कम से कम दस वर्ष तक ठीक रहेगा। लेकिन निर्माण के बाद पहली बरसात में ही सड़क खराब हो गया है। तो वही ग्राम बड़हुम के पास सड़क पर स्थित पुल विगत दो सप्ताह पहले धंस गया है। जिसका सुध लेने वाला कोई नही है। अगर जल्द ही इस धंसे पुल की मरम्मत नही किया गया तो कभी भी अप्रिय घटना घट सकती।

विभाग को बड़ी हादसा का इनतजार
सड़क धंसे होने के कारण वर्तमान में इस सड़क पर आवागमन पूरी तरह बंद हो गया। ग्रामीणों का कहना है कि ठेकेदार द्वारा घटिया मटेरियल का उपयोग किया गया था ।इसी की वजह से पुल धंस गया हैं।उसके साथ ही कई स्थानों पर गिट्टी उखड़ रही है।उक्त सड़क पर भारी वाहनों का परिचालन काफी कम होता है। सड़क से हर दिन ग्रामीण साइकिल, मोटरसाइकिल से शहर आते-जाते हैं।सड़क निर्माण में बरती गई अनियमितता के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है। अगर इस सड़क की मरम्मत जल्दी नही की जाएगी तो कभी भी बड़ी हादसा हो सकता है।और इसकी शिकायत सम्बंधित विभाग व क्षेत्रीय विधायक से भी किया गया इसके बावजूद किसी भी प्रकार की पहल नही हुई। जिससे ग्रामीणों व राहगीरों में नाराजगी है।

Back to top button