दिल्ली में बढ़ते अपराधों पर गौतम गंभीर ने अपने ही सरकार से पूछे सवाल

गृह मंत्री से पूछे सवाल, जी.किशन रेड्डी ने दिए गृह मंत्रालय की तरफ से जवाब

नई दिल्ली: बीजेपी के पूर्वी दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर ने दिल्ली में बढ़ते अपराधों पर अपनी ही सरकार से सवाल पूछ बैठे। गृह मंत्रालय की तरफ से जी.किशन रेड्डी ने जवाब दिया। रेड्डी ने कहा की सरकार इसे रोकने के लिए गंभीर है।

बीजेपी के पूर्वी दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर ने अपने सवाल में पूछा था कि क्या गृह मंत्री बताएंगे कि पिछले वर्षों के दौरान दिल्ली में लगभग प्रति तीन मिनट में एक आपराधिक मुकदमा दर्ज किया गया,जो कि 2014 की तुलना में 23 प्रतिशत अधिक है। अगर हां तो पिछले तीन वर्षों में के दौरान अपराधों का ब्यौरा क्या है। गौतम गंभीर ने पूछा कि क्या जिन अपराधों ने शहर को झकझोर दिया,उनमें चोरी,डकैती और अपहरण की बढ़ती घटनाएं हैं। यदि हां तो सरकार की क्या प्रतिक्रिया है?

गृह मंत्रालय की तरफ से इसका जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने बताया कि अपराधों की रिपोर्टिंग और रजिस्ट्रेशन को सुविधाजनक बनाया गया है। साथ ही ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा के कारण राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में पंजीकृत मामलों की संख्या अधिक हो सकती है। फिर भी,वर्ष 2014 की तुलना में पिछले तीन वर्षों के दौरान जघन्य अपराधों की संख्या में काफी गिरावट देखी गई।

गृह मंत्रालय के राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने बताया कि 2014 में दिल्ली में जहां कुल 10266 अपराध दर्ज हुए थे,वहीं 2016 में 8238 मामले सामने आए। इसी तरह 2017 में जघन्य अपराध के मामलों की संख्या 6527 रही। वहीं 2018 में 5688 मामले सामने आए। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने बताया कि 2014 की तुलना में 2016 में अपराध की संख्या में 19.76 प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई। वहीं 2017 में जघन्य अपराधों की संख्या में 36.42 और 2018 में 44.59 प्रतिशत गिरावट हुई।

Back to top button