गंभीर का ट्वीट- माफ करना दोस्त, कफ़न के कपड़े से सिला जा रहा है बंद गला

अरुणाचल के तवांग में हुई एयरफोर्स का विमान हादसग्रस्त होने से सात जवानों की मौत हो गई थी. शहादत के दो दिन बाद इन सैनिकों के शवों को कथित तौर पर प्लास्टिक की बोरियों में लपेटे जाने और कार्डबोर्ड में बंधे होने की तस्वीरें सामने आने पर लोगों में आक्रोश फैल गया. सोशल मीडिया पर लोगों ने इसका जमकर विरोध कर रहे हैं और गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भी इस घटना को शर्मनाक बताया है. इस मामले पर सेना ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि स्थानीय संसाधनों से शवों को लपेटना ‘भूल’ थी और मृत सैनिकों को हमेशा पूर्ण सैन्य सम्मान दिया गया है.

गंभीर ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘IAF क्रैश के शहीदों के शव…शर्मनाक! माफ़ करना ऐ दोस्त, जिस कपड़े से तुम्हारा कफ़न सिलना था वो अभी किसी का बंद गला सिलने के काम आ रहा है!!!.’ इससे पहले भी गंभीर देश भक्ति और जवानों के प्रति अपना आदर प्रकट करते आए हैं. बीते दिनों गंभीर ने कश्मीर में शहीद हुए जवान की बेटी जोहरा की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने के ऐलान किया था.

उत्तरी सैन्य कमान के पूर्व कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) एच एस पनाग ने शवों की तस्वीर के साथ अपने ट्वीट में कहा कि सात युवा अपनी मातृभूमि भारत की सेवा करने के लिए दिन के उजाले में निकले और वे अपने घर इस तरह आए.’ इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए सेना ने बयान में कहा कि पार्थिव शरीरों को बॉडी बैग्स , लकड़ी के बक्से और ताबूत में लाया जाना सुनिश्चित किया जाएगा.

बयान में कहा गया है, ‘मृत सैनिकों को हमेशा पूर्ण सैन्य सम्मान दिया जाता है. शवों को बॉडी बैग्स, लकड़ी के बक्से, ताबूत में लाया जाना सुनिश्चित किया जाएगा.’ बाद में सेना की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि अत्यधिक ऊंचाई वाले क्षेत्र में सीमित संसाधनों के कारण हेलिकॉप्टर ज्यादा भार नहीं ले जा सकते. साथ ही यह भी कहा गया कि बॉडी बैग्स या ताबूत के बजाय शव उपलब्ध स्थानीय संसाधनों में लपेटे गए. यह एक भूल थी.’ बयान में कहा गया कि गुवाहाटी बेस अस्पताल में पोस्टमार्टम के तुरंत बाद शवों को पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ लकड़ी के ताबूत में रखा गया.

Back to top button