3350 गौठानों की सटीक लोकेशन ज्ञात करने के लिये किया गया जियो-टैगिंग

विभागीय वेबसाइट https://nggb.cg.nic.in में मिलेगी जानकारी

रायपुर: सुराजी ग्राम योजना अंतर्गत गरूवा अंतर्गत ग्राम पंचायत स्तर पर बड़ी संख्या में गौठानों का निर्माण किया गया है. जिससे न सिर्फ पशुओं का उचित व्यवस्थापन हो रहा है, अपितु विभिन्न आर्थिक गतिविधियों के संचालन से आमदनी भी प्राप्त की जा रही है.

गौठान में उत्पादित गोबर और गोमूत्र से कम्पोस्ट खाद, गमला, दिया, धूप बत्ती निर्माण इत्यादि गतिविधियां ली जा रही है. वर्तमान में प्रदेश भर की कुल 10005 ग्राम पंचायतों में से 5409 ग्राम पंचायतों में गौठान स्वीकृत किये जा चुके है. जिसमें से 1929 गौठान पूर्ण है.

शेष निर्माणाधीन गौठानों के शीघ्र अतिशीघ्र पूर्ण करने कार्यवाही प्रगति पर है. प्रदेश की समस्त ग्राम पंचायतों में गौठान निर्माण को सुनिश्चित किये जाने के लिए नवीन गौठानों की स्वीकृतियां लगातार जारी की जा रही है.

वहीँ प्रदेश के गौठानों की सटीक लोकेशन ज्ञात करने के लिये गौठानों का जियो-टैगिंग किया गया है. वर्तमान में कुल 3350 गौठनों का जियो टैगिंग किया जा चुका है. जियो-टैगिंग किये जाने से ग्रामीणों को नजदीकी गौठान की जानकारी रहती है. जिससे पशुओं को नजदीकी गौठान में व्यवस्थापन में काफी सहलियत होती है.

प्रदेश के गौठानों की सटीक स्थिति ज्ञात करने के लिये विभागीय वेबसाइट https://nggb.cg.nic.in में जियो-टैगिंग गौठान बटन दबाने पर नक्शे पर गौठान की स्थिति व फोटो की जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

Tags
Back to top button