छत्तीसगढ़

गरियाबंद कलेक्टर ने जिला पंचायत सीईओ के साथ धान उपार्जन केन्द्रों का किया औचक निरीक्षण

निरीक्षण के दौरान धान उपार्जन केंद्रों में उन्होंने धान की गुणवत्ता और मॉइश्चर मशीन से किसानों के धान की नमी नापी

गरियाबंद। ओड़िसा से धान खपाने की शिकायतों को संज्ञान में लेते हुए कलेक्टर श्याम धावड़े ने आज जिला पंचायत सीईओ आरके खुटे और जिला प्रशासन की टीम के साथ विकासखंड देवभोग के धान उपार्जन केंद्रों का औचिक निरीक्षण किया। इनमें झाखरपारा, निष्ठीगुड़ा, लाटापारा और मैनपुर विकासखंड के धान उपार्जन केंद्र उरमाल, अमलीपदर तथा भेजीपदर शामिल है।

इसके साथ उन्होंने अंतर्राज्यीय सीमा पर सतत् निरीक्षण कर अवैध धान परिवहन पर कार्यवाही के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं।

धान की गुणवत्ता और किसानों के धान की नमी नापी

धावड़े ने आज निरीक्षण के दौरान धान उपार्जन केंद्रों में उन्होंने धान की गुणवत्ता और मॉइश्चर मशीन से किसानों के धान की नमी नापी। इस दौरान उन्होंने किसानों से चर्चा कर उनकी समस्याओं के तत्काल निराकरण और धान की ठीक से तौलाई करने के निर्देश धान खरीदी केंद्र प्रभारी को दिए हैं।

प्रशासनिक टीम में खाद्य अधिकारी एचके डड़सेना, देवभोग एसडीएम निर्भय साहू, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के नोडल अधिकारी धनराज पुरबिया एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

ऐसी व्यवस्था बनाएं कि ब्रिकी में ना हो परेशानी

कलेक्टरधावड़े ने सभी उपार्जन केंद्रों के प्रभारी और कर्मचारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि केंद्र में ऐसी व्यवस्था बनाएं, जिससे किसानों को धान बिक्री में कोई परेशानी न हो और हमेशा किसानों के हित को ध्यान में रखकर कार्य किया जाए। उन्हें समय पर धान बिक्री की राशि भी मिल जानी चाहिए। उपार्जन केन्द्रों में उन्होंने इलेक्ट्राॅनिक तौल मशीन बढ़ाने के निर्देश भी दिये हैं।

झाखरपारा में उन्होंने धान बेचने आये दीवानमुड़ा के कृषक 70 वर्षीय गोपनाथ कश्यप से चर्चा की। कश्यप के धान को मॉइश्चर मशीन में नापने से निर्धारित मापदण्ड के अनुरूप पाया गया। धावड़े ने झाखरपारा में धान उपलोड होने के बाद खड़े ट्रकों को तत्काल कुण्डेलभाटा धान संग्रहण केंद्र के लिये रवाना करने के निर्देश डीएमओ मार्कफेड को दिये।

उनके निर्देश पर कुछ समय पश्चात ट्रकों को संग्रहण के लिए रवाना कर दिया गया। निष्टिगुड़ा, लाटापारा में किसानों की शिकायत पर कलेक्टक्र ने पहले आने वाले किसानों का टोकन पहले काटने के सख्त निर्देश दिए हैं।

कर्मचारियों को निष्ठापूर्वक कार्य करने की दी हिदायत

उन्होंने धान उपार्जन केन्द्र के सभी कर्मचारियों को निष्ठापूर्वक कार्य करने की हिदायत देते हुए कहा कि किसानों का समय पर टोकन नहीं काटने पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी। धावड़े ने धान खरीदी के समय मॉइश्चर के साथ औसत अच्छी किस्म (एफ ए क्यू) का विशेष ध्यान रखने के निर्देश भी दिए हैं।

निष्टिगुड़ा में धान बिक्री के लिए आये खोकसरा के एक किसान के धान में अधिक नमी होने पर वापस लौटाने और वहीं पर एक पिकअप में आये धान की गुणवत्ता अच्छी नहीं होने तथा दूसरे का धान दूसरे व्यक्ति द्वारा लाये जाने पर कलेक्टर ने तत्काल जांच कराने के निर्देश वहां के प्रभारी को दिए हैं।

इसके बाद धावड़े उरमाल पहुंचे वहां भी उन्होंने कृषक झीमा बाई और कदलीमुड़ा के कृषक चक्रधर नायक से धान खरीदी की सुविधाओं को लेकर चर्चा की। अमलीपदर धान उपार्जन केन्द्र पहुंचने पर वहां बारदाने की समस्या बताई गई।

बारदाने के व्यवस्था का निर्देश

जिस पर कलेक्टर धावड़े ने तत्काल बारदाने की व्यवस्था करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिये। साथ ही उन्होंने वहां धान उठाव के लिए ट्रक भेजने के निर्देश भी डीएमओ मार्कफेड को दिये हैं।

निरीक्षण के दौरान बताया गया कि उपार्जन केन्द्र निष्टीगुड़ा में आज तक 27 हजार क्विंटल धान खरीदी हुई है, जिसमें से 14 हजार क्विंटल धान का उठाव किया जा चुका है।

इसी प्रकार उरमाल में 50 हजार क्विंटल धान की खरीदी और 14 हजार धान का उठाव, अमलीपदर में 35 हजार 804 क्विंटल धान की खरीदी और 24 हजार 500 क्विंटल धान के उठाव तथा भेजीपदर में 52 हजार क्विंटल धान की खरीदी तथा 39 हजार 410 क्विंटल धान का उठाव होने की जानकारी दी गई।

Tags
Back to top button