छत्तीसगढ़

गोडिय़न संस्कृति को विश्व की समस्त संस्कृतियों की जननी बताया

आर्थिक रूप से सक्षम बनने व्यपार-व्यवसाय को अपनाने की अपील

रायपुर : गोड़वाना समाज के युवा प्रभाग के संभागीय अध्यक्ष चंद्रेश ठाकुर ने कहा कि गोड़वाना समाज के विकास हेतु शिक्षा, संगठन एवं मद्यपान का परित्याग करना आवश्यक हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा एवं संगठन के बिना किसी भी समाज की विकास की परिकल्पना करना सर्वथा असंभव है। ठाकुर जिले के मोहला विकासखंड के सुदूर वनांचल एवं महाराष्ट्र सीमा से लगे ग्राम मडिय़ानवाड़वी (भोजटोला) में आयोजित गोड़वाना समाज के महान विभूति स्वर्गीय लाल श्याम शाह की पुण्य तिथि एवं समाज के द्वारा आयोजित सामुहिक विवाह समारोह को संबोधित कर रहे थे।

समारोह में पूर्व विधायक संजीव शाह, गोड़वाना समाज के ब्लॉक अध्यक्ष रमेश हिड़ामे, संजीत ठाकुर, पानाबरस के जमीदार लाल लक्ष्मेन्द्र शाह, लखन सोरी, मानसाय बोगा, पुरन कुमेटी, लतखोर नुरेटी, केजू गोटे, भूपेन्द्र मंडावी सहित समाज प्रमुखगण उपस्थित थे। कार्यक्रम में ठाकुर ने स्वर्गीय लाल श्याम शाह के क्षेत्र एवं समाज के विकास हेतु किए गये योगदानों पर भी प्रकाश डाला।

इस अवसर पर ठाकुर ने कहा कि गोड़वाना संस्कृति को विश्व की समस्त संस्कृतियों की जननी है। जिसका उल्लेख देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने अपनी पुस्तक डिस्कवरी ऑफ इंडिया में किया है। उन्होंने समाज के लोगों को आर्थिक रूप से सक्षम बनने के लिए व्यपार-व्यवसाय को अपनाने की भी अपील की। इसके साथ ही उन्होंने समाज के जागरूक एवं प्रबुद्ध वर्गों के लोगों के अलावा नवयुवकों, अधिकारियों – कर्मचारियों को समाज के विकास में अपनी बहुमूल्य भागीदारी निभाने की अपील की।

कार्यक्रम में ब्लॉक अध्यक्ष रमेश हिड़ामे ने आदिवासी समाज के हितों के संरक्षण हेतु स्वर्गीय लाल श्याम शाह के योगदानों के अलावा उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर भी प्रकाश डाला। इस दौरान उन्होंने समाज के सांस्कृतिक विशेषताओं एवं उनके विभिन्न पहलुओं के संंबंध में भी समाज के लोगों को विस्तार पूर्वक जानकारी दी। कार्यक्रम को पूर्व विधायक संजीव शाह, संजीत ठाकुर एवं समाज प्रमुख तथा अतिथियों ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में सामुहिक विवाह कार्यक्रम संपन्न कराकर वर-वधु को आशिर्वाद भी प्रदान किया गया।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.