बुकिंग के लिए गोआइबीबो व मेक माई ट्रिप को बदलनी होगी नीति -एफएचआरएआई

40 फीसदी तक पहुंच गया है एजेन्टों का कमीशन

नई दिल्ली :

होटलों और रेस्त्रां के शीर्ष संगठन फेडरेशन ऑफ होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफएचआरएआई) का कहना है कि गोआइबिबो व मेक माई ट्रिप दोनों एजेंटों को बुकिंग के लिए अपनी नीतियां बदली होगी नहीं तो शीघ्र ही पूरे देश में गोआइबिबो व मेक माई ट्रिप से आने वाली बुकिंग नहीं स्वीकार की जाएगी।

ये बिना होटल से बात किए अपनी तरफ से ग्राहकों को छूट दे देते हैं, जिसका खामियाजा होटलों को भुगतना पड़ता है। जब ऑनलाइन कमरे बुक कराने में सस्ता पड़ रहा है, तो ग्राहक ऑफलाइन कमरे बुक कराने से बचने लगे हैं।

पहले ये एजेंट होटलों से 15 से 18 फीसदी कमीशन वसूलते थे, जो इन दिनों बढ़कर 40 फीसदी तक पहुंच गया है। इससे होटल मालिकों का गुजारा मुश्किल हो गया है। सिंह का कहना है कि होटल तो पहले ही अपनी तरफ से डिस्काउंट देकर रेट बताते हैं, ऊपर से ओटीए छूट दे देते हैं।

छूट पर छूट होटल मालिकों के लिए वहन करना मुश्किल हो रहा है। ऐसा इसलिए, क्योंकि उनका करीब 40 फीसदी इंवेंट्री ओटीए के ही पास होता है। संगठन का कहना है कि ओटीए अवैध रूप से चल रहे या बिना लाइसेंस वाले बेड एंड ब्रेकफास्ट मोटल को भी अपने प्लेटफार्म पर बढ़ावा देते हैं।

इससे इस क्षेत्र में नियम-कानून को मानकर कारोबार कर रहे कारोबारियों को परेशानी हो रही है। मेक माई ट्रिप के प्रवक्ता ने कहा कि वह एफएचआरएआई और अपने होटल साझेदारों से बातचीत कर रहे हैं। उम्मीद है कि शीघ्र ही इस मसले को सुलझा लिया जाएगा।

Back to top button