वकील बनने का सुनहरा मौका, 21 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज में भर्ती प्रक्रिया शुरू

रायपुर।

देश के सभी 21 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज में ग्रेजुएट तथा पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। यदि आप 12वीं कक्षा में हैं और बड़ा वकील और जज बनना चाहते हैं तो यह मौका मत चूकिए। आप कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट) में शामिल होकर कानून की पढ़ाई की ओर एक कदम बढ़ा सकते हैं।

अगर आपने कानून में ग्रेजुएशन कर लिया है तो पोस्ट ग्रेजुएशन में प्रवेश के लिए दीया परीक्षा देनी होगी। ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों में प्रवेश के लिए अलग-अलग परीक्षा है, लेकिन नाम है क्लैट- 2019, जो 12 मई को होगी।

इसके लिए आवेदन केवल ऑनलाइन भरे जा रहे हैं, जबकि परीक्षा ऑफलाइन यानी कागज-कलम से होगी, कम्प्यूटर आधारित नहीं। ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च है। यहां हम आपको दोनों परीक्षाओं के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

छत्तीसगढ़ के लिए आरक्षण (एचएनएलयू में)

कैटेगरी ऑल इंडिया सीट छत्तीसगढ़ के लिए आरक्षित

एसी 12(15%) 10(12%)

एसटी 06(7.5%) 26(32%)

ओबीसी – 11(14%)

अनारक्षित 62 33

कुल सीट 80 80

प्रशन इस प्रकार के होंगे

-बी एल बी प्रवेश के लिए

अधिकतम अंक 200

परीक्षा की अवधि दो घंटे

प्रश्नों की संख्या 200

प्रत्येक प्रश्न के अंक एक

प्रश्न वस्तुनिष्ठ बहु विकल्प प्रकार

प्रत्येक गलत जवाब पर 0.25 अंक कटेंगे

इन विषयों पर होगी परीक्षा अंक

सेक्शन इंग्लिश कंप्रीहेंशन 40

संख्यात्मक योग्यता 20

सामान्य ज्ञान व करंट अफेयर 50

लॉजिकल रिजनिंग 40

लीगल एप्टीट्यूड 50

कुल 200

अगर आप मार्च-अप्रैल में होने वाली 12वीं की परीक्षा दे रहे हैं, तब भी क्लैट के लिए आवेदन कर सकते हैं। क्लैट में सफलता के बाद प्रवेश से पहले 12वीं की अंक तालिका पेश करनी होगी।

यह है 21 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज

नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बेंगलुरू, नेशनल एकेडमिक ऑफ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च, हैदराबाद, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, भोपाल, वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जुडिशल साइंसेज, कोलकाता, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी जोधपुर, हिदायतुल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, रायपुर, गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी,गांधीनगर, राम मनोहर लोहिया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, लखनऊ, राजीव गांधी नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, पटियाला, चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, पटना, नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एडवांस लीगल स्टडीज, कोची, दामोदर संजीवव्यया नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, विशाखापट्टनम, तमिलनाडु नेशनल लॉ स्कूल, त्रिची, महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी,मुंबई, महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, नागपुर, महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, औरंगाबाद, हिमाचल प्रदेश नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी,शिमला, धर्मशास्त्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, जबलपुर।

एक्सपर्ट की राय

शैलेन्द्र सिंह ने बताया कि देश में वकॉलत का दौर पुनः वापस आ गया है। अच्छे लॉ संस्थानों में पढ़कर आप बेहतर एडवाइजर बन सकते है। साथ ही लॉ का एक फर्म भी खोला जा सकता है। देश के संविधान का शब्द सभी का पता है, लेकिन उसमें क्या लिखा है, ये किसी को ढंग से नहीं पता। अच्छे वकील निकलेंगे तो कानून की जागरूकता बढ़ेगी।

1
Back to top button