राष्ट्रीय

गोल्फर ज्योति रंधावा को नहीं मिली जमानत, सुनवाई 14 जनवरी निर्धारित

वन विभाग के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया था

बहराइच: वन्यजीवों का शिकार के आरोप में अंतरराष्ट्रीय गोल्फर ज्योति रंधावा और उनके साथी पूर्व नेवी अधिकारी महेश विराजदार को कतर्नियाघाट सेंचुरी इलाके में वन्य जीव संरक्षण कानून व वन अधिनियम की धाराओं में वन विभाग के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया था.

गिरफ्तार दोनों खिलाड़ी की गुरुवार को भी जमानत नहीं हो सकी. दोनों बहराइच जेल में बंद हैं. यह अभयारण्य भारत-नेपाल सीमा पर बहराइच जनपद की नानपारा तहसील में स्थित है. सत्र अदालत ने सुनवाई की अगली तारीख 14 जनवरी निर्धारित की है.

वन विभाग के अधिवक्ता सुरेश यादव ने बताया कि जिला जज उपेन्द्र कुमार ने विवेचक द्वारा मुकदमे में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की धारा 48-ए तथा 51(1) सी बढ़ाए जाने के कारण मामला दोबारा निचली अदालत में सुनवाई हेतु भेजा गया.

मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी नवनीत कुमार भारती ने रंधावा और उसके साथी की जमानत अर्जी आज फिर खारिज कर नयी धाराओं में विवेचक को रिमांड प्रदान की है. निचली अदालत की कार्यवाही समय रहते पूरी नहीं होने की वजह से जिला जज उपेन्द्र कुमार ने अगली सुनवाई के लिए 14 जनवरी की तारीख दी है.

उल्लेखनीय है कि गोल्फर रंधावा व पूर्व नेवी कैप्टन विराजदार को बीते माह की 26 तारीख को जंगल में शिकार के आरोप में कतर्नियाघाट सेंचुरी इलाके में वन्य जीव संरक्षण कानून व वन अधिनियम की धाराओं में वन विभाग के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया था.

दोनों के कब्जे से हरियाणा नंबर की एसयूवी जीप, प्रतिबंधित 0.22 बोर की टेलीस्कोप लगी राइफल, शिकार में प्रयुक्त होने वाले उपकरण, एक जंगली मुर्गा जिसे गोली लगी थी तथा सांभर की खाल और अन्य वस्तुएं बरामद हुई थीं.

Summary
Review Date
Reviewed Item
गोल्फर ज्योति रंधावा को नहीं मिली जमानत, सुनवाई 14 जनवरी निर्धारित
Author Rating
51star1star1star1star1star
congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags
Back to top button