खुशखबरी: ई-वॉलेट इस्तेमाल करने वाले को मिलेगा अब ये फायदा

लापरवाही से कोई फ्रॉड होता है तो ग्राहक जिम्मेदार नहीं होगा

नई दिल्ली: ई-वॉलेट का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को रिज़र्व बैंक की ओर से जारी नियमों के मुताबिक अगर ई-वॉलेट या प्री-पेड इंस्ट्रूमेंट जारी करने वाली कंपनी की लापरवाही से कोई फ्रॉड होता है तो ग्राहक जिम्मेदार नहीं होगा.

इसी तरह अगर किसी थर्ड पार्टी एजेंसी की गलती से ग्राहक के वॉलेट से फ्रॉड होता है तो उस स्थिति में ग्राहक को पूरी भरपाई होगी. हालांकि इसके लिए ग्राहक को पता चलने के तीन कामकाजी दिन के भीतर ई-वॉलेट कंपनी में शिकायत दर्ज़ करानी होगी.

अगर 4-7 दिन के भीतर ग्राहक शिकायत दर्ज़ कराता है तो नुकसान की असली रकम या फिर अधिकतम 10,000 रुपए में से जो कम हो वही मिलेगा. अगर 7 दिन के बाद ग्राहक शिकायत दर्ज़ कराता है तो ई-वॉलेट कंपनी की इस मामले पर जो पॉलिसी होगी उसी के हिसाब से भरपाई की जाएगी.

अगर ग्राहक की गलती से अनाधिकृत सौदा हुआ है तो उस स्थिति में सारी जिम्मेदारी ग्राहक की होगी. हालांकि ग्राहक से लापरवाही हुई है ये साबित करने का जिम्मा ई-वॉलेट कंपनी का होगा. रिज़र्व बैंक ने ये भी प्रावधान किया है कि अगर कोई ई-वॉलेट कंपनी चाहे तो ग्राहक की गलती होने के बावजूद भी उसे भरपाई कर सकती है.

1
Back to top button