Google ने मानी अपनी गलती , सेव किया था UIDAI नंबर

उन्होंने कहा कि इसे लेकर उन्होंने किसी भी टेलिकॉम ऑपरेटर्स या फोन निर्माता कंपनी को कोई निर्देश नहीं दिए हैं।

नई दिल्ली। पिछले कुछ दिनों में सोशल मीडिया पर UIDAI के हेल्पलाइन नंबर को लेकर विवाद गर्माया हुआ है। ऐंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोन में अपने आप UIDAI के हेल्पलाइन नंबर सेव होने को लेकर वाद-विवाद शुरू हो गया है।

फोन में ये नबंर कैसे आया, कहां से आया इसे लेकर चर्चा हो रही है। वहीं UIDAI ने साफ कर दिया कि उस मामले में उनका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने ये भी साफ कर दिया कि एंड्राइड फोन में जो यूआईडीएआई के नंबर सेव हैं वो पुराना है।

UIDAI ने ट्विटर पर बताया है कि पिछले दो सालों से UIDAI का टोल फ्री नंबर 1947 है। उन्होंने कहा कि इसे लेकर उन्होंने किसी भी टेलिकॉम ऑपरेटर्स या फोन निर्माता कंपनी को कोई निर्देश नहीं दिए हैं।

इस पूरे विवाद पर देर रात ऐंड्रॉयड की पैरंट कंपनी गूगल के अपना पक्ष रखा और अपनी गलती मानी। गूगल के साफ किया कि उनकी गलती की वजह से फोन में UIDAI का नबंर सेव हुआ है।

गूगल ने कहा कि हेल्पलाइन नंबर- 1800-300-1947- ऐंड्रॉयड फोन्स में 2014 में ही कोड किया गया था, जो कई यूजर्स ने अभी भी उनके फोन में मिल रहा है। गूगल ने कहा है कि साल 2014 में हमने UIDAI हेल्पलाइन और आपदा हेल्पलाइन नंबर 112 ऐंड्रॉयड के सेटअप विज़र्ड में कोड कर दिया गया था ।

इसे भारत के फोन निर्माता कंपनियों ने जारी कर दिया था, जो कि यूजर्स को उनके फोन के कॉटेक्ट लिस्ट में लिखते थे। गूगल के मुताबिक मोबाइल बदलने के बावजूद गूगल से पुराने नंबर ट्रांसफर होकर नए फोन में भी आ गए। गूगल ने कहा है कि वो सेटअप विज़र्ड की अगली रिलीज में इसे फिक्स करने का काम करेगी।

Tags
Back to top button