राष्ट्रीय

शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर दी एक खास संदेश

पांच सितंबर की तारीख का भारत में एक खास महत्व

नई दिल्ली: पांच सितंबर की तारीख का भारत में एक खास महत्व है. दरअसल यह देश के दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन है और उन्हीं के सम्मान में इस दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है.

5 सितम्बर 1888 को तमिलनाडु में जन्मे डा. राधाकृष्णन देश के दूसरे राष्ट्रपति थे और उन्हें भारतीय संस्कृति के संवाहक, प्रख्यात शिक्षाविद्, महान दार्शनिक और एक आस्थावान हिन्दू विचारक के तौर पर जाना जाता है. पूरे देश को अपनी विद्वता से अभिभूत करने वाले डा. राधाकृष्णन को भारत सरकार ने सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से अलंकृत किया था.

इसी कड़ी में शिक्षक दिवस के मौके पर गूगल ने अपना डूडल शिक्षक दिवस को समर्पित किया है. इस डूडल में एक ऑक्टोपस समुद्र के अंदर शिक्षक बनकर मछलियों को गणित और दूसरे हाथ से केमेस्ट्री पढ़ा रहा है साथ ही तीसरे हाथ कई मछलियों से उनकी आंसर शीट लेता हुआ दिखाई दे रहा है.

शिक्षक की हमारे जीवन कई बहुआयामाी भूमिका

इसमें संदेश देने की कोशिश की गई है कि एक शिक्षक की हमारे जीवन कई बहुआयामाी भूमिका होती है और कई चीजें सिखाते हैं. भारतीय परंपरा में वैसे भी शिक्षका दर्जा सबसे ऊपर रहा है. जब देश में गुरुकुल परंपरा लागू थी तो उस समय शिक्षक ही समाज को दिशा का देने का सबसे बड़ा काम करते थे.

वह न सिर्फ लोगों को ज्ञानवान बनाते थे बल्कि राजनीतिक और समाजिक मामलों में भी नीतियां करते थे. आचार्य चाणक्य इसका सबसे उदाहरण हैं. चाणक्य ने ब्राह्मण होते हुए सभी वर्जनाओं को तोड़कर एक बालक के अंदर राजा बनाया था जो उस समय के जाति व्यवस्था के आधार पर निचले दर्जे से आता था.

यही बालक आगे चलकर चंद्रगुप्त मौर्य के नाम से प्रतापी राजा बना. भारत के इतिहास में उसके वंश के कार्यकाल को मौर्य वंश के नाम से जाना जाता है.

Tags
Back to top button