पर्सनल लोन एप के खिलाफ गूगल का बड़ा एक्‍शन, PlayStore से हटाया

गूगल के मुताबिक, यह पर्सनल लोन एप यूजर के निजता और सुरक्षा का उल्लंघन कर रहे थे।

नई दिल्‍ली: गूगल ने कई पर्सनल लोन एप्स के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए इनको गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया है। यूजर और सरकार के एजेंसी द्वारा इन पर्सनल लोन एप के खिलाफ मिली शिकायत के बाद गूगल ने यह कार्रवाई की है।

गूगल के मुताबिक, यह पर्सनल लोन एप यूजर के निजता और सुरक्षा का उल्लंघन कर रहे थे। गूगल ने कहा है कि इन पर्सनल लोन एप के खिलाफ स्थानीय जांच में वह एजेंसियों की पूरी मदद करेगी। इसके साथ ही गूगल ने कहा है कि अगर ऐसे पर्सनल लोन एप जो स्थानीय कानून यूजर की निजता या सुरक्षा की अवहेलना करते हैं, उन्हें भी प्ले स्टोर से हटाया जाएगा।

Google इंडिया ने गुरुवार को एक ब्लॉग पोस्ट में उल्लेख किया कि यह PlayStore पर किसी भी लोन ऐप को हटा देगा जो स्थानीय कानूनों और नियमों का पालन नहीं करता है। यह रिपोर्ट कम से कम 10 भारतीय लोन देने वाले ऐप्स को फ़्लैग करने बाद आई है, जिन्हें Google के Play Store पर लाखों बार डाउनलोड किया जा चुका है।

गूगल ने कहा, “हमने उपयोगकर्ताओं और सरकारी एजेंसियों द्वारा प्रस्तुत की गई रिपोर्ट के आधार पर भारत में सैकड़ों व्यक्तिगत लोन ऐप की समीक्षा की है। हमारी उपयोगकर्ता सुरक्षा नीतियों का उल्लंघन करने वाले ऐप तुरंत स्टोर से हटा दिए गए थे और हमने शेष पहचान किए गए डेवलपर्स से इस बारे में पूछा है। एप्लिकेशन प्रदर्शित करते हैं कि वे लागू स्थानीय कानूनों और नियमों का अनुपालन करते हैं।

सुज़ेन फ्रे उत्पाद उपाध्यक्ष ने कहा, ”ऐसा करने में विफल रहने वाले ऐप को बिना किसी नोटिस के हटा दिया जाएगा। इसके अलावा, हम इस मुद्दे की जांच में कानून प्रवर्तन एजेंसियों की सहायता करना जारी रखेंगे।”

रॉयटर्स द्वारा Google को फ़्लैग किए जाने के बाद चार ऐप्स 10MinuteLoan, एक्स-मनी और एक्स्ट्रा मुद्रा और स्टुअर्ड को प्ले स्टोर से हटा दिया गया था, जोकि 60 दिनों या उससे कम समय में पूर्ण पुनर्भुगतान की आवश्यकता वाले व्यक्तिगत लोन की पेशकश पर प्रतिबंध का उल्लंघन कर रहे थे। समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने बताया कि 30 जनवरी के लोन की पेशकश को हटाने के बाद 7 जनवरी को Google Google Play स्टोर पर StuCred को वापस लेने की अनुमति दी गई थी। रायटर के अनुसार, PlayStore पर कम से कम छह अन्य एप्लिकेशन उपलब्ध हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button