पार्टी सत्ता बदलने के लिए नहीं, व्यवस्था बदलने आई है : गोपाल राय

प्रदेश में गैर भाजपा, गैर कांग्रेस विकल्प के लिए आम आदमी पार्टी पहल करेगी।”

मध्य प्रदेश : आम आदमी पार्टी (आप) की मध्य प्रदेश इकाई के प्रभारी और दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने यहां मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी सत्ता बदलने के लिए नहीं आई है,

बल्कि व्यवस्था में बदलाव के लिए मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में उतरने जा रही है। राय ने यहां कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, “लोग भाजपा और कांग्रेस की नीतियों से त्रस्त हो चुके हैं और अब विकल्प के रूप में आम आदमी पार्टी की ओर देख रहे हैं। प्रदेश में गैर भाजपा, गैर कांग्रेस विकल्प के लिए आम आदमी पार्टी पहल करेगी।”

आप प्रत्याशियों की पहली सूची जारी करते हुए राय ने कहा, “मध्य प्रदेश में हम सत्ता नहीं, व्यवस्था परिवर्तन के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो केवल सत्ता बदलेगी, व्यवस्था नहीं। आज देश के हर प्रदेश में दिल्ली की तरह गैर भाजपा, गैर कांग्रेस विकल्प की जरूरत है, जिससे कि व्यवस्था में बदलाव आ सके।”

उन्होंने कहा कि व्यवस्था परिवर्तन के लिए आम आदमी पार्टी गैर भाजपा, गैर कांग्रेस महागठबंधन के लिए विभिन्न पार्टियों और सामाजिक संगठनों से बातचीत करेगी और मध्य प्रदेश में बदलाव की अपनी लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाएगी।

आप नेता ने कहा, “हमारे विरोधियों के पास दौलत है, सत्ता है, ताकत है, लेकिन हमारे पास आम आदमी की ताकत है, जिसने अंग्रेजों को इस देश से उखाड़ फेंका था, और अब यही आम आदमी इस देश से भ्रष्टाचारियों की सत्ता को भी उखाड़ फेंकेगा।

इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष आलोक अग्रवाल ने कहा, “जिस व्यवस्था में रोज पांच किसान और 92 बच्चे मर रहे हों, जहां दो युवा रोज आत्महत्या कर रहे हों, ऐसी सत्ता को बदलना जरूरी ही नहीं, बल्कि हर नागरिक की जिम्मेदारी भी है। आम आदमी पार्टी प्रदेश में इस लूट और भ्रष्टाचार के राज को खत्म करेगी और आम आदमी का राज लाएगी।”

मंत्री गोपाल राय ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ हाल ही में दिल्ली के उपराज्यपाल के दफ्तर पर नौ दिनों तक धरना दिया था। उन्होंने कहा कि अब वक्त आ गया है कि आम आदमी पार्टी का हर कार्यकर्ता आज से विधानसभा चुनाव के महासमर में इस भ्रष्ट सत्ता को उखाड़ फेंकने के लिए कमर कसे। प्रत्याशियों की घोषणा के साथ ही पार्टी ने ‘आम आदमी का राज’ लाने की लड़ाई का शंखनाद कर दिया।

Back to top button