राष्ट्रीय

यूरिया का गलत इस्तेमाल न हो, इसलिए की गई है नीमकोटिंग

नई दिल्ली: अभी तक यूरिया का खेतों में कम अन्य उद्योगों में ज्यादा इस्तेमाल किया जाता रहा है. जिसके चलते सीजन के समय किसानों को यूरिया की किल्लत से जूझना पड़ता था. यूरिया की इस कालाबाजारी को रोकने के लिए सरकार ने यूरिया पर नीम की लेप चढ़ानी शुरू कर दी. नीम कोटिंग यूरिया का अन्य कामों में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.

परिवहन और राजमार्ग, शिपिंग तथा रसायन और उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख लाल मंडविया ने कहा कि सरकार ने यूरिया के नीमकोटिंग में गलत कार्यो को रोकने के लिए अनेक उपाय किए हैं. मंडविया ने राज्यसभा में एक प्रश्न के जवाब में बताया कि उर्वरक विभाग ने नीम तेल की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए और केवल सही नीम तेल निर्माताओं से तेल खरीदने के बारे में यूरिया इकाइयों को समय-समय पर निर्देश जारी किए गए हैं.

उन्होंने कहा कि कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग ने छह फरवरी, 2017 के आदेश के अंतर्गत नीम कोटेड यूरिया की विशिष्टता में संशोधन किया है. इसके तहत टिप्पणी में नीम कोटेड यूरिया के उत्पादन के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला नीम तेल की विशिष्टता बताई गई है. कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग ने सभी यूरिया निर्माताओं तथा आयातकों को निर्देश दिया है कि वे नीम तेल की विशिष्टता का पालन करें.

उर्वरक मंत्री ने कहा कि उर्वरक विभाग ने कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग से अनुरोध किया है कि यूरिया बनाने वाली इकाइयों से नीम तेल के नमूने उठाने के लिए केंद्रीय प्रयोगशालाओं को परामर्श दें. उर्वरक विभाग ने सभी यूरिया निर्माताओं तथा आयातकों को सलाह दी है कि वे सप्लाई किए जाने वाले नीम तेल के उत्पादन व आयात क्षमता और गुणवत्ता को टेंडर नोटिस की शर्त के रूप में शामिल करें.

Tags
Back to top button