सरकार,रिजर्व बैंक की घरेलू,वैश्विक बाजारों पर नजर: सीतारमण

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शेयर बाजारों में जारी भारी उथल-पुथल को लेकर शुक्रवार को कहा कि सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुये है। कोरोना वायरस के डर से बाजारों में भारी उठापटक चल रही है।

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार और केंद्रीय बैंक की घरेलू बाजारों के साथ-साथ वैश्विक बाजारों पर भी नजर है।

सीतारमण ने कहा कि सरकार के विभिन्न विभाग तेजी से फैलते वायरस संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित उद्योग को राहत के लिए काम कर रहे हैं।

वित्त मंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘वैश्विक बाजारों में भी काफी अफरा-तफरी है। हम उनकी भी निगरानी कर रहे हैं। दुनिया के अन्य स्थानों के बाजार भी बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। मैं इस बात को लेकर सजग हूं। वैश्विक स्तर पर इसका गंभीर असर है। हम इसको लेकर सतर्क हैं।’’

सीतारमण ने कहा कि सरकार रिजर्व बैंक के साथ मिलकर कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर बाजार में मचे घमासान पर नजदीकी से नजर रखे हुये है।

बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में दस प्रतिशत से अधिक टूटने के बाद कारोबार की समाप्ति पर 1,325.34 अंक मजबूत होकर बंद हुआ। शुरुआती कारोबार में घरेलू शेयर बाजारों में अभी तक की सबसे बड़ी बिकवाली देखने को मिली, कारोबार शुरू होने के महज 20 मिनट में ही निवेशकों को करीब 12 लाख करोड़ रुपये की चपत लग गयी।

इसके बाद शेयर बाजारों में 45 मिनट के लिये कारोबार बंद कर दिया गया। इससे पहले इस तरह की भारी गिरावट के बाद जनवरी 2008 में शेयर बाजारों में कारोबार बंद किया गया था।

वित्त मंत्री ने कोरोना वायरस पर कहा कि केंद्र सरकार इसको लेकर राज्यों के संपर्क में है और लगातार स्थिति की निगरानी कर रही है।

सीतारमण ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि भारतीय हित को सुरक्षित रखने के लिए समय पर प्रभावी कदम उठाए जाएं। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जा रहा है कि विदेश से लौटे लोगों का परीक्षण हो और उनकी निगरानी की जाए। जहां तक आवश्यक है और जहां तक संभव है उन्हें देश में वापस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘आपको पता होगा कि मेरी सभी संबंधित उद्योगों के साथ बैठक हुई। प्रत्येक विभाग इस बात पर काम कर रहा है कि उनकी मदद के लिए कैसे बेहतर काम किया जा सकता है। हमें इस मामले की पूरी जानकारी है और हम दैनिक आधार पर स्थिति की निगरानी कर रहे हैं।’’

एक अन्य सवाल पर सीतारमण ने कहा कि अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्र संबंधित विभागों के साथ रोजाना के आधार पर मिलकर काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम उद्योगों की जरूरतों को पूरा करने का प्रयास कर रहे हैं। हम यह भी देख रहे हैं कि कहां प्रत्येक विभाग को हस्तक्षेप करने की जरूरत है।

Tags
Back to top button