छत्तीसगढ़

राम वन गमन पर्यटन परिपथ के लिए अलग कोष का गठन करेगी सरकार

एलईडी वाहनों के माध्यम से परिपथ का प्रचार-प्रसार किया जाएगा

रायपुर: छत्तीसगढ़ में राम वन गमन पर्यटन परिपथ के निर्माण के कार्य में प्रदेश की जनता की सहभागिता के लिए राम वन गमन पर्यटन परिपथ विकास कोष का गठन किया जाएगा। प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों में एलईडी वाहनों के माध्यम से परिपथ का प्रचार-प्रसार किया जाएगा।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर शनिवार को राजधानी के पुलिस परेड मैदान से जनता के नाम दिए संदेश में सीएम बघेल ने यह बाते कहीं। साथ ही सीएम ने कहा कि सिरपुर स्थित विश्व प्रसिद्घ बौद्घ आस्था केंद्र को विश्व मानचित्र में प्रतिष्ठित कराने के प्रयासों के साथ ही, वहां समुचित अधोसंरचनाओं का विकास किया जाएगा।

बता दें कि सरकार छत्तीसगढ़ में भगवान राम के वनवास से जुड़े स्थानों को धार्मिक पर्यटन केंद्र के रुप में विकासित कर रही है। पहले चरण में सरकार ने ऐसे आठ स्थानों का चयन किया है। इसके लिए सरकार ने 137 करोड़ रुपए से अधिक का बजट भी आवंटित कर रखा है।

अर्थव्यवस्था को लेकर तोड़ा मिथक

सीएम ने कहा कि हमने बड़े और महंगे निर्माण से अर्थव्यस्था के संचालन का मिथक तोड़ दिया है। स्थानीय जनता की सोच से विकास का रास्ता अपनाया है जिसके कारण निवेश और विकास हमराही बन गए हैं। विकास की हमारी सोच, नीति और क्रियांवयन के बीच इतना गहरा नाता है कि दो वार्षिक बजट काल पूरा होने के पहले ही हम इस दौरान देश के सबसे बड़े रोजगार सृजक राज्य बन गए हैं।

26 लाख मीट्रिक टन इस्पात का उत्पादन

सीएम ने कहा कि कोरोना काल में भी छत्तीसगढ़ में 26 लाख मीट्रिक टन इस्पात सामग्रियों के उत्पादन और आपूर्ति से सिर्फ छत्तीसगढ़ ही नहीं बल्कि पूरे देश को सहारा मिला है। सीएम ने कहा कि बीते डे? वर्षों में प्रदेश में 545 नए उद्योगों की स्थापना हुई जिसमें 13 हजार करोड़ रुपये का पूंजी निवेश हुआ तथा 10 हजार लोगों को रोजगार मिला।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button