बिज़नेसराष्ट्रीय

दिवाली से पहले आपके खाते में पैसे ट्रांसफर करेगी सरकार, जाने कैसे

लॉकडाउन में समय पर लोन चुकाने वाले ग्राहकों को ये ऑफर

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी और लॉकडाउन के असर से बैंक कर्जदारों को राहत देने के लिए EMI में छूट यानी लोन मोरेटोरियम का ऐलान किया था. आइल तहत दिवाली से पहले आपके खाते में सरकार पैसे ट्रांसफर करेगी. लॉकडाउन में समय पर लोन चुकाने वाले ग्राहकों को केंद्र सरकार की ओर से ये ऑफर दिया जा रहा है.

किन लोगों को मिलेगा कैशबैक?

सरकार ने कहा है कि लोन लेने वाले जिन भी ग्राहकों ने मोराटोरियम सुविधा का फायदा नहीं लिया और समय पर EMI का पेमेंट किया ऐसे लोगों को कैशबैक मिलेगा. इस स्कीम के तहत ऐसे कर्जदारों को 6 महीने के सिंपल और कम्पाउंड इंट्रेस्ट में डिफरेंस का लाभ मिलेगा.

प्रकाश जावड़ेकर ने किया ट्वीट केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस बारे में ट्वीट करते हुए बताया उन्होंने ट्वीट में लिखा कि जिन्होंने समय पर EMI भरी है, उनको ब्याज पर ब्याज के हिसाब से कैश बैक मिलेगा. इसके अलावा जो EMI समय पर नहीं दे सके, उनके ब्याज पर ब्याज सरकार भरेगी.

सभी तरह के लोन लेने वालों को मिलेगा फायदा

इस योजना के तहत होम लोन, एजुकेशन लोन, क्रेडिट कार्ड का बकाया, वीइकल लोन, MSME लोन, कंज्यूमर ड्यूरेबल लोन के धारकों को लाभ मिलेगा.

RBI ने दी थी 6 महीने के लिए लोन मोरेटोरियम की सुविधा

आपको बता दें कोरोना महामारी के बीच RBI ने ग्राहकों को 6 महीने के लिए लोन मोरेटोरियम की सुविधा दी थी. महामारी के समय में जो भी लोग EMI का पेमेंट करने में असमर्थ थे उन सभी ने इस सुविधा का लाभ लिया था.

31 मार्च तक ग्राहकों को मिली थी ये सुविधा

बता दें ग्राहकों को 1 मार्च से लेकर 31 अगस्त तक के लिए यह सुविधा दी गई थी. इस सुविधा के बाद में मोराटोरियम पीरियड के दौरान ब्याज पर ब्याज का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और सरकार ने कहा कि कर्जदारों को ब्याज पर ब्याज नहीं भरना होगा. इससे सरकारी खजाने पर करीब 7000 करोड़ का असर होगा.

मिलेगी ब्याज पर ब्याज की छूट आपको

बता दें सरकार ने 2 करोड़ रुपए तक लोन लेने वाले ग्राहकों को लोन मोराटोरियम की सुविधा का फायदा दिया था. सरकार के मुताबिक 6 महीने के लोन मोराटोरियम समय में दो करोड़ रुपए तक के लोन के ब्याज पर ब्याज की छूट देगी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button