बघेल सरकार का बड़ा फैसला, बंद होगी मीसाबंदियों की पेंशन

रायपुर।

छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद कांग्रेस की सरकार बनने पर अब मीसाबंदी पेंशन को बंद करने का निर्णय लिया गया है. अगले महीने से ये पेंशन बंद हो जाएगा.

आपको बता दें कि इंदिरा गांधी की सरकार में इमरजेंसी के दौरान जेल गए मीसा बंदियों को मीसाबंदी सम्मान निधि के तहत पेंशन दी जाती है, इसे पूर्व की सरकार ने चालू किया था.

हालिया विधानसभा चुनाव में हार के बाद बीजेपी सत्ता से बाहर हो गई है और कांग्रेस ने सरकार बनाई है. सूबे में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस पूर्व सरकार द्वारा शुरू की गई इस पेंशन को बंद करने जा रही है. छत्तीसगढ़ में इस वक्त करीब 300 मीसाबंदी हैं.

जिला कोषालय अधिकारियों से कहा गया है कि वे बैंको को ताकीद करें कि फरवरी से उन्हें इसका भुगतान न किया जाए. कलेक्टरों को भेजे गए पत्र में जीएडी सेक्रेटरी रीता शांडिल्य ने लिखा है कि मीसा बंदियों को दिए जाने वाले सम्माननिधि को और अधिक पारदर्शी बनाना है.

वित्तीय वर्ष में बजट प्रावधान के अनुसार उन्हें भुगतान की जाने वाली सम्मान निधि की राशि का समुचित नियमन करने एवं भुगतान की वर्तमान प्रक्रिया को और अधिक सटीक पारदर्शी बनाया जाना आवश्यक है। साथ ही प्रदेश में लोकतंत्र सेनानियों का भौतिक सत्यापन कराया जाना आवश्यक है।

1
Back to top button