रुपए में लगातार गिरावट पर बोले गर्वनर- रुपए का गिरना बाजार पर है निर्भर

रुपये की विनिमय दर बाजार की ताकतों से तय होती है और रिजर्व बैंक इसका कोई दायरा तय नहीं कर सकता

मुंबई। डॉलर के मुकाबले रुपए में लगातार हो रही गिरावट पर रिजर्व बैंक के गर्वनर उर्जित पटेल ने कहा कि रुपये की विनिमय दर बाजार की ताकतों से तय होती है और रिजर्व बैंक इसका कोई दायरा तय नहीं कर सकता है।

मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत ब्याज दरों को यथावत रखकर बाजार को चौंकाने वाले गवर्नर ने कहा कि केंद्रीय बैंक का लक्ष्य मुद्रास्फीति पर केंद्रित था।

रुपया शुक्रवार को 19 पैसे की गिरावट के साथ डॉलर के मुकाबले सर्वकालिक निम्न स्तर 73.77 के स्तर पर बंद हुआ।

कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों की वजह से यह दिन के कारोबार के दौरान पहली बार 74 के पार चला गया था।

पटेल का बयान बताता है कि सेंट्रल बैंक रुपये का बचाव करने की बजाय, महंगे डॉलर को आयात में कमी और निर्यात को वृद्धि के रूप में देखता है,

जिससे स्थिरता आएगी। रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने भी इस नजरिए का समर्थन करते हुए कहा कि विनिमय दर यह तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि अर्थव्यवस्था झटकों को कैसे सहन करेगा।

पटेल ने डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट को अधिक महत्व ना देते हुए कहा, ‘अन्य उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं की मुद्राओं की तुलना में रुपये की स्थिति बेहतर है।’ उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी से रुपया 17 प्रतिशत टूट चुका है।

Back to top button