…अब नहीं काटने होंगे दफ्तरों के चक्कर, केंद्र सरकार ने लाया जीएसटी एप

नई दिल्लीः माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के क्रियान्वयन के साल भर पूरा होने पर आइरिस बिजनेस र्सिवसेज लिमिटेड ने जीएसटी बिल एवं अन्य दस्तावेजों की सत्यता जांचने वाला एप ‘आइरिस पेरिडॉट’ पेश किया है।

यह एप दस्तावेजों को स्कैन कर उसका जीएसटी पहचान नंबर यानी जीएसटीआईएन की सत्यता जांचता है तथा करदाता के दायर रिटर्न की स्थिति की जानकारी देता है। कंपनी ने जारी बयान में कहा कि उपभोक्ता अपने फोन के कैमरे से ही किसी भी दस्तावेज को स्कैन कर सकते हैं। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (कृत्रिम बुद्धिमता) आधारित यह एप दस्तावेज पर अंकित जीएसटीआईएन की पहचान कर करदाता के रिटर्न की विस्तृत जानकारी उपलब्ध करा देता है

कंपनी के कारोबार प्रमुख गौतम महंती ने कहा कि जीएसटीएन की वेबसाइट से इस प्रक्रिया में उपभोक्ताओं को कई चरणों से गुजरना पड़ता है। इस लिहाज से यह एप छोटे कारोबारियों के लिए विशेष मददगार है। कंपनी ने कहा कि यह एप गूगल प्ले स्टोर तथा एप्पल स्टोर पर नि:शुल्क उपलब्ध है।

Back to top button