ओपी जिंदल विश्वविद्यालय में “प्रीफैब्रिकेटेड स्टील स्ट्रक्चर” विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन

रायगढ़ : बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन और सिविल इंजीनियरिंग में प्रीफैब्रिकेशन का आजकल व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला रूप संरचनाओं में प्रीफैब्रिकेटेड कंक्रीट और प्रीफैब्रिकेटेड स्टील सेक्शन का उपयोग है। प्रीफैब्रिकेटेड स्टील बड़े भवनों के बाहरी हिस्से के लिए व्यापक रूप से उपयोग किए जाते हैं। वे इमारतों के निर्माण के लिए आदर्श विकल्प हैं और किसी भी अन्य निर्माण विधि की तुलना में अधिक लाभ प्रदान करते हैं। प्रीफैब्रिकेटेड स्टील स्ट्रक्चर का महत्व प्रति दिन बढ़ रहा है और सिविल इंजीनियरिंग के छात्रों को इसके बारे में जागरूक करने और विस्तृत जानकारी देने के लिए ओपी जिंदल विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग के सिविल इंजीनियरिंग विभाग ने 1 9 सितंबर 2018 को “प्रीफैब्रिकेटेड स्टील स्ट्रक्चर” विषय पर एक अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया।

अरविंद टैगई, उत्पादन प्रमुख, स्ट्रक्चरल स्टील डिवीजन, पुंजिपथरा, रायगढ़ ने प्रमुख वक्ता के रूप में यह व्याख्यान दिया। अपने व्याख्यान में उन्होंने कहा, “प्रीफैब्रिकेटेड स्टील स्ट्रक्चर निर्माण उद्योग के लिए एक बेहद महत्वपूर्ण संसाधन हैं और इन्हें विनिर्माण, तेल और गैस, पैकेजिंग, मोटर वाहन, जहाज निर्माण, परिवहन और खनन जैसे उद्योगों में उपयोग किया जाता है। इनका निर्माण कंस्ट्रक्शन साइट पर भी किया जाता है जिससे निर्माण परियोजनाओं को तेज़ी से पूरा किया जा सके। ” व्याख्यान के दौरान, टैगई ने प्रीफैब्रिकेटेड स्टील संरचनाओं की रचनात्मकता, महत्व, डिजाइनिंग, स्थायित्व एवं अन्य विषेशताओं के बारे में चर्चा की। व्याख्यान बहुत ही संवादात्मक था और सभी छात्रों और प्राध्यापकों ने चर्चा में उत्साहपूर्वक भाग लिया।
अंत में, कार्यक्रम के समन्वयक श्री विनोद नागपुरे ने अतिथि श्री अरविंद टैगई, डॉ पी एस बोकारे , डीन, स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग, प्राध्यापकों और प्रतिभागियों को उनके बहुमूल्य सहयोग के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया ।

Back to top button