रायपुर

गणेशोत्सव को लेकर दंडाधिकारी एवं कलेक्टर रायपुर द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देश

गणेश भगवान की मूर्ति 4 बाई 4 से अधिक बड़ी ना हो,गणेश कमेटी को सैनिटाइजर, थर्मल स्कैनिंग, आक्सोमीटर, चार सीसीटीवी कैमरा रखना होगा

  • पंडाल में एक बार में 20 से अधिक लोग ना रहे
  • पंडाल के सामने 5000 वर्ग फीट की जगह होनी चाहिए और कोई सड़क या सार्वजनिक स्थान प्रभावित ना हो
  • बिलासपुर में गणेशोत्सव समितियां गणेश बैठाने के पहले रायपुर कलेक्टर द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का अवलोकन जरूर करें
  • रायपुर में गणेशोत्सव को लेकर जारी नियम कायदे बिलासपुर में भी देर-सबेर जारी हो सकते हैं
  • पंडाल में आने के कारण जो भी व्यक्ति संक्रमित होंगे..उनके इलाज का पूरा खर्चा गणेशोत्सव समितियों को ही देना होगा

बिलासपुर। सितंबर में आयोजित होने वाले गणेशोत्सव को लेकर रायपुर कलेक्टर ने अभी से गंभीर दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं।
प्रदेश की राजधानी रायपुर में मनाया जाने वाला गणेश उत्सव न केवल छत्तीसगढ़ वरन मध्यप्रदेश के जमाने से इंदौर के बाद का सबसे बड़ा और तथा आकर्षक गणेश उत्सव माना जाता है। जो प्रसिद्धि बिलासपुर के दुर्गोत्सव की है। वही प्रसिद्धी रायपुर के गणेशोत्सव की है।

कलेक्टर रायपुर ने आज जारी दिशानिर्देश में स्पष्ट कर दिया है (देखें चार्ट) कि गणेश की मूर्ति किसी भी गणेश उत्सव समिति में 4 बाई 4 से बड़ी नहीं होनी चाहिए। इसी तरह गणेश उत्सव का पंडाल 15 बाई 15 से बड़ा नहीं होना चाहिए।और पंडाल के सामने 5000 वर्ग फीट की ऐसी जगह होनी चाहिए, जिसमें कोई सार्वजनिक सड़क आदि प्रभावित ना हो।वहीं गणेशोत्सव समिति को कम से कम 4 सीसीटीवी कैमरे पंडाल में लगाने अनिवार्य होंगे।

गणेश उत्सव समिति

जिससे संक्रमण फैलने पर यह पता लगाया जा सके कि उस दौरान पंडाल में कौन-कौन व्यक्ति आए हुए थे। ऐसे ही पंडाल में, थर्मल स्क्रीनिंग, सेनीटाइजर आक्सोमीटर समेत सारे उपकरण रखने अनिवार्य हैं।जारी इस आदेश में यह भी कहा गया है कि अगर किसी गणेश उत्सव समिति के पंडाल में आने पर कोई व्यक्ति संक्रमित होगा। तो उसके इलाज का पूरा खर्चा गणेश उत्सव समिति को ही उठाना पड़ेगा।गणेश उत्सव समिति को अपने पंडाल में एक रजिस्टर रखना पड़ेगा।

गणेशोत्सव को लेकर दंडाधिकारी एवं कलेक्टर रायपुर द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देश

जिसमें दर्शन के लिए आने वाले प्रत्येक व्यक्ति का नाम,पक्का पता और मोबाइल नंबर भी दर्ज करना होगा।इसके अलावा और भी बहुत से दिशा निर्देश कलेक्टर रायपुर के द्वारा जारी किए गए हैं।बिलासपुर में जो गणेश चौक से समितियां हैं।उन्हें इन दिशानिर्देशों का अभी से अध्ययन कर लेना चाहिए क्योंकि देर सवेर बिलासपुर कलेक्टर भी इसी तरह के दिशानिर्देश जारी कर सकते हैं। ‌

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button