मतगणना प्रक्रिया, स्ट्रांग रूम, वीडियोग्राफी और चुनाव परिणाम की घोषणा के संबंध में दिशा-निर्देश

राजनांदगांव : छŸाीसगढ़ मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा मतगणना केन्द्र, मतगणना प्रक्रिया, स्टांग रूम, वीडियो ग्राफी, परिणामों की घोषणा, परिणामों की रिपोर्ट के संबंध में विस्तृत दिशा निर्देश दिए गए हैं। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा इस संबंध में सभी संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों के रिटर्निंग ऑफिसर तथा कलेक्टरों एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को परिपत्र जारी कर दिया गया है।

मतगणना केन्द्र की सुरक्षा व्यवस्था –

गणना परिसर के चारो ओर 100 मीटर परिधि के क्षेत्र को ‘पैदल यात्री क्षेत्र’ के रूप में निर्धारित किया जाना चाहिए। इस परिधि में किसी भी वाहन का प्रवेश निषिद्ध होगा। तीन स्तरीय घेरा बंदी प्रणाली में प्रथम स्तर पैदल यात्री क्षेत्र से प्रारंभ होगी।

प्रथम व बाहर के घेरे में प्रवेशकर्ताओं की पहचान की जांच के लिए एक वरिष्ठ मजिस्ट्रेट के साथ पर्याप्त स्थानीय पुलिस बल होना चाहिए। जिसे पार करने की अनुमति केवल ईसीआई अथवा डीईओ द्वारा पहचान पत्र जारी किए गए व्यक्तियों को ही होगी।

दूसरा घेरा गणना परिसर के द्वार पर होगा जो विशेष सुरक्षा बल के जिम्मे होगा। तीसरा घेरा गणना हाल के द्वार पर होगा। जहां सीपीएफ तैनात होगा। वे यह सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी मोबाईल अथवा अन्य निषिद्ध सामग्री के साथ प्रवेश न कर पाएं। गणना केन्द्र के अंदर बीड़ी, तम्बाखू, गुटका, सिगरेट, लाईटर, पेन, धारदार या नुकीली वस्तु आदि लेकर प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

गणना हाल में कोई भी अभ्यर्थी या उसके अभिकर्ता को केलकुलेटर के साथ प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। मतगणना हाल में गणना टेबल लोहे की जाली से सुरक्षित रहेगी। इन टेबलों में से एक टेबल बैंक कैशियर कॉउंटर की तरह होगी।

जिसमें गणना अभिकर्ताओं के हस्ताक्षर प्राप्त करने के लिए खुली जगह रखी जाएगी। मतगणना केन्द्र के बाहर छाया व पेयजल की उचित व्यवस्था की जाएगी। प्रत्येक लोकसभा में निर्देशानुसार 5-5 वीवीपैट पर्ची का सत्यापन किया जाना है। मीडिया सेन्टर में प्रवेश के लिए आयोग द्वारा अधिकृत मीडिया कर्मियों को ही अनुमति होगी।

स्ट्रांग रूम –

मतगणना के लिए स्ट्रांग रूम खोले जाने की कार्रवाई प्रेक्षक, रिटर्निंग ऑफिसर एवं सहायक रिटर्निंग ऑफिसर की उपस्थिति में की जाएगी। स्ट्रांग रूम खोलने एवं बंद करने की सूचना अभ्यर्थियों को लिखित में दी जाना सुनिश्चित करें। स्ट्रांग रूम खोले जाने के पूर्व लॉग बुक में आवश्यक एन्ट्री की जाए।

स्ट्रांग रूम से ईवीएम को मतगणना हाल तक तथा मतगणना की कार्रवाई के पश्चात वापस स्ट्रांग रूम तक निर्धारित आवश्यक सुरक्षा एवं पर्यवेक्षण के साथ पहुंचाया जाए। सुरक्षा व्यवस्था तब तक स्ट्रांग रूम में बनी रहेगी जब तक इलेक्शन पिटीसन की नियत मियाद पूरी नहीं हो जाती।

स्ट्रांग रूम के बगल में यदि किसी कमरे में मतदान में उपयोग नहीं की गई रिजर्व या डिफेक्टिव ईवीएम रखी गई है, तो उस कमरे को मतगणना शुरू होने के पहले अभ्यर्थियों की मौजूदगी में सील कर दिया जाए।

वीडियोग्राफी –

मतगणना की महत्वपूर्ण व्यवस्थाओं एवं प्रक्रियाओं की वीडियोग्राफी अनिवार्य रूप से कराई जाने के निर्देश दिए गए हैं। निर्देश के अनुसार मतगणना कर्मियों के रैण्डमाईजेशन की प्रक्रिया, स्ट्रांग रूम को खोले जाने की प्रक्रिया, स्ट्रांग रूम से मतगणना स्थल तक ईवीएम को लाने-ले जाने, मतगणना हाल की व्यवस्था, प्रेक्षकों द्वारा रैण्डमली चयनित 02 ईवीएम की गणना प्रक्रिया, मतगणना की सुरक्षा व्यवस्था,

मतगणना के दौरान अभ्यर्थियों या अभ्यर्थियों के अभिकर्ताओं की उपस्थिति, मतगणना परिणाम की घोषणा की प्रक्रिया तथा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के विधानसभाखंड के 5 रेण्डमली चयनित मतदान केन्द्रों के वीवीपैट कागज पर्चियों के सत्यापन की प्रक्रिया की वीडियोग्राफी कराई जानी है। मतगणना प्रक्रिया की वीडियोग्राफी इस तरह से की जाए कि मतों एवं प्रत्याशीवार प्राप्त संख्याओं की गोपनीयता भंग न हो।

परिणाम की घोषणा-

फार्म-20 को पूर्ण किया जाए। जहां-जहां भारत निर्वाचन आयोग से सहमति आवश्यक है वह प्राप्त कर लिया जाए। भारत निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक से अनापŸिा प्रमाण पत्र प्राप्त कर लिया जाए। पुनर्गणना के लिए कोई आवेदन आए तो उस पर निर्णय किया जाए। यदि पुनर्गणना की या नहीं की जाती है तो यथा स्थिति परिणाम की घोषणा के बाद प्रारूप 20 में हस्ताक्षर करना चाहिए।v

परिणाम के औपचारिक घोषणा रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा या फार्म-21 सी में की जाएगी। निर्वाचित उम्मीदवार का नाम और पता फार्म-7 ए के अनुसार प्रविष्ट किया जाए। निर्वाचन विवरणी को फार्म-21 ई में पूर्ण करें और सत्यापित करें। ईसीआई और सीईओ को फार्म-21 ई की हस्ताक्षरित प्रतियां भेजी जाए। प्रारूप 21 ई की प्रतियां अभ्यर्थियों या अभिकर्ताओं को दो रूपए के शुल्क भुगतान के बाद उपलब्ध कराई जा सकती है।

निर्वाचन परिणाम की रिपोर्ट –

निर्वाचित उम्मीदवार को फार्म- 22 में चुनाव का प्रमाण पत्र देना चाहिए। केवल उम्मीदवार अथवा उम्मीदवार द्वारा विधिवत अधिकृत ऐसा व्यक्ति जिसे रिटर्निंग ऑफिसर व्यक्तिगत रूप से जानता हो वही प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकता है।

निर्वाचित उम्मीदवार से विधिवत हस्ताक्षरित पावती प्राप्त करना है। पावती किसी भी भाषा में हो। संसद के महासचिव को भेजने के पूर्व हस्ताक्षर को रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा प्रमाणित किया जाना चाहिए।

Back to top button