बड़ी खबरराज्यराष्ट्रीय

गुजरात: वेंटिलेटर की जगह निकले Ambu bags, विपक्ष के निशाने पर CM रुपानी

निर्मित वेंटिलेटर्स

नई दिल्ली/ गुजरात में पिछले महीने प्रदेश में निर्मित वेंटिलेटर्स को लेकर पूरे देश में खूब चर्चा हुई थी। इन वेंटिलेटर्स को का उद्घाटन प्रदेश के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने 4 अप्रैल को अहमदाबाद के सिविल अस्पताल किया था। लेकिन अब पता चला है कि जो जिन वेंटिलेटर्स की बात हो रही थी, वे दरअसल मरीजों को सांस देने वाले उपकरण मात्र हैं। अब इसको लेकर विपक्ष ने गुजरात मॉडल पर ही सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं।

गुजरात के दलीत नेता जिग्नेश मेवानी और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने इस मुद्दे को लेकर सवाल उठाए हैं। जिग्ननेश मेवानी ने आरोप लगाया है कि दोस्त की कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए गुजरात के सीएम ने मानव जिंदगी के साथ समझौता किया है। बकौल मेवानी, ‘नेशनल मीडिया आवश्यक ध्यानार्थ- विजय रुपाणी जी ने कथित तौर पर अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में अंबु-बैग्स को वेंटिलेटर्स के तौर पर पास किया था। अपने दोस्त की कंपनी के हित के लिए यह मानव जिंदगी के साथ गंभीर किस्म का समझौता है।’

इसी तरह सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने भी इस मुद्दे पर कड़ा रुख अपनाया है। वह कहते हैं, ‘गुजरात मॉडल! मुख्यमंत्री रुपानी ने अंबु बैग्स को वेंटिलेटर्स की तरह पास कर दिया! एक मुख्यमंत्री द्वारा अंबु बैग्स को वेंटिलेटर्स की तरह पास करना ना सिर्फ अपराध है, बल्कि यह दिखाता है कि गुजरात सरकार में इन दिनों रुपानी के शासन में सभी कुछ किस तरह काम कर रहा है। ‘

Tags
Back to top button