गुजरात: दलित नेता भानुभाई वणकर का शव परिवार लेने को तैयार, कल जिग्नेश मेवानी को लिया गया था हिरासत में

भानुभाई वणकर की मौत से भड़के दलित समाज के लोगों ने राज्य के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन, चक्का जाम किया और कुछ जगहों पर आगज़नी की है. कुछ दिन पहले दलित कार्यकर्ता भानु वणकर ने उत्तर गुजरात में कलेक्टर के दफ़्तर के सामने आत्मदाह कर लिया था.

अहमदाबाद: गुजरात में दलित सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर का परिवार उनका शव लेने को तैयार हो गया है. आज उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. वणकर की मौत से भड़के दलित समाज के लोगों ने राज्य के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन, चक्का जाम किया और कुछ जगहों पर आगज़नी की है.

कुछ दिन पहले दलित कार्यकर्ता भानु वणकर ने उत्तर गुजरात में कलेक्टर के दफ़्तर के सामने आत्मदाह कर लिया था. वो दलितों को सरकार की ओर से आबंटित ज़मीन के क़ब्ज़े की मांग कर रहे थे. इसी मामले में दलित नेता और गुजरात में विधायक जिग्नेश मेवानी और 100 अन्य लोगों को रविवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया था.

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

अहमदाबाद के उपगनरीय इलाके सरसपुर में पुलिस हिरासत में लिए जाने पर मेवानी की पुलिस के साथ गरमागरमी भी हुई. मेवानी और 100 अन्य लोगों को हिरासत में लेने पर उन्होंने सिपाही से बहस की और उनसे उनके बकल का नंबर मांगा. उन्होंने कहा, “गुजरात तुम्हारे पिता का नहीं है. अपना बकल नंबर दो. मैं निर्वाचित विधायक हूं और तुम मेरा अपमान नहीं कर सकते.”

वहीं प्रदेश के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने पत्रकारों से कहा, “हमने उनकी सभी बड़ी मांगें मान ली है. हम भानुभाई वांकर के परिवार के नाम कानूनी रूप से जमीन का हस्तांतरण करेंगे और वांकर के परिवार को आठ लाख रुपये का मुआवजा देंगे.”

उन्होंने कहा, “सरकार उच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में जांच आयोग का गठन करेगी या विशेष जांच दल से मामले की जांच करवाएगी जिस पर वांकर के परिवार की सहमति है. “

Back to top button