IS संदिग्ध की प्रेम कहानी, प्रेमिका जाती सीरिया

अहमदाबाद: आईएस संदिग्ध से पूछताछ में आतंक निरोधक दस्ते (एटीएस) के सामने एक अनोखी प्रेम कहानी आई है।

संदिग्ध कासिम स्टिंबरवाला कोलकाता की रहने वाली शाजिया नाम की एक लड़की से प्यार करने लगा था और उसके साथ शादी भी की थी।

दोनों शादी के बाद सीरिया जाने का प्लान बना रहे थे। दोनों पूर्व मुजाहिदीन आतंकी जैयद अल हिंदी उर्फ शफी आरमर से प्रभावित थे।

एटीएस सूत्रों के अनुसार स्टिंबरवाला एक गरीब परिवार से आता है और रोजी कमाने के लिए अंलकेश्वर के एक ट्रस्ट फंडेड हॉस्पिटल में इको कार्डियोग्राम टेक्नीशन के तौर पर काम कर रहा था। वह अपनी मां के साथ सूरत के बड़ेखान चकला में एक किराए के कमरे में रहता था।

एटीएस के एक अधिकारी ने बताया, ‘2013 में कासिम और शाजिया एक सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए संपर्क में आए।

लंबे समय तक बात करते-करते एक दूसरे को पसंद और फिर प्यार करने लगे। कासिम उससे मिलने बीच-बीच में कोलकाता भी गया।’

अधिकारी ने बताया कि सोशल मीडिया पर ही दोनों 2014 में शफी आरमर से जुड़े, जहां से उनपर आईएसआईएस का प्रभाव पड़ा। अधिकारी ने बताया कि उसी साल शफी ने हैदराबाद से युवकों को आईएस में शामिल कराने और सीरिया भेजने की योजना बनाई थी।

शाजिया ने फर्जी पासपोर्ट तैयार किए जिनके जरिए युवकों को बांग्लादेश के रास्ते सीरिया जाना था, लेकिन युवकों को पहले ही पकड़ लिया गया।

थोड़े दिन बाद शाजिया और कासिम ने शादी करली और हमेशा के लिए सीरिया जाने का मन बनाया, लेकिन शाजिया के घरवाले इसके खिलाफ थे। बाद में कासिम सूरत लौट आया और काम करने लगा।

स्थानीय लोगों ने बताया कि वह शांत रहने वालों में से था और किसी से ज्यादा बातचीत नहीं करता था। एक स्थानीय ने कहा, ‘जब उसे आतंकी संगठन से जुड़ा होने के लिए गिरफ्तार किया गया तो हम हैरान रह गए।’

advt

Back to top button