छत्तीसगढ़

देश की आर्थिक समृद्धि का आधार बनेगी गौमाता : बृजमोहन

रायपुर । रायपुर स्थित 97 वर्ष पुराने महावीर गौशाला में आयोजित गोपाष्टमी कार्यक्रम में प्रदेश के पशुपालन कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल शामिल हुए यहां उन्होंने गुड और रोटी खिलाकर सपरिवार गौ माता की पूजा अर्चना की।
इस अवसर पर गौभक्तों सहित उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि, गौ माता सिर्फ धर्म ही नहीं हमारी आस्था और विश्वास का भी प्रतीक है। यह माता इसलिए है क्योंकि यह हमारा पालन-पोषण भी करती है। अपनी पुरातन परंपराओं में झांके तो पता चलता है कि गौ माता किस तरह परिवार का भरण पोषण करती रही है। गौमाता के दूध का उपयोग पूरा परिवार करता है । अतिरिक्त दूध से धन भी प्राप्त होता है। गोमूत्र दवा के रूप में उपयोग में लाया जाता रहा है। गोबर से जैविक खाद बनाकर धरती पर अनाज उगाया जा रहा है। परंतु आज के इस दौर में गौ माता की महत्ता को लोग भूलते जा रहे है।
श्री अग्रवाल ने कहा कि सारी दुनिया अब जैविक खेती की दिशा में बढ़ रही है।ऐसे में हमारे पास गौपालन एक बढ़िया विकल्प के रुप में सामने हैं।यह हमारी आर्थिक समृद्धि का मार्ग भी है। हम गोबर- गोमूत्र से बने खाद- दवाइयों से बेहतर जैविक खेती कर, गुणवत्तापूर्ण अनाज का उत्पादन कर सकते हैं। आज हम देख रहे हैं कि रासायनिक खाद-दवाइयों के बेतरतीब उपयोग से अनाज का उत्पादन थोड़ा बढ़ा है, परंतु यह उत्पादित अनाज गुणवत्ता विहीन तथा स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक हैं। ऐसे में परिवार, देश और समाज को सुरक्षित स्वास्थ्य और समृद्ध रखने के लिए गौ पालन व जैविक खेती करने की आवश्यकता समय की मांग है।
श्री अग्रवाल ने कहा कि यह देख कर दुख होता है कि गौशालाओं का संचालन ज्यादातर व्यवसायिक हित के लिए किया जा रहा है । कम ही संस्थाएं हैं जो सेवा भाव के साथ गौशालाएं चला रहे हैं।
उन्होंने बताया कि प्रदेश में 40 एनिमल होल्डिंग सेंटर शुरू किए जाएंगे। जिसे सामाजिक संस्थाएं संचालित करेगी। रायपुर के मठपुरैना में इस हेतु 5 एकड़ जमीन प्रतिष्ठित सामाजिक संस्था बढ़ते कदम को प्रदान की गई है। यहा पर वे कुछ जमीन पर चारा उगाएंगे और बाकी में सड़क पर घूम रही गौमाता को लाकर उनकी सेवा करेंगे।
श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के किसानों की समृद्धि व गौ माता की सेवा की दृष्टि से गो पालन हेतु 50% सब्सिडी में 12लाख रुपए तक लोन प्रदान करने की योजना हमने प्रारंभ की है। इसका लाभ प्रदेश के गोपालक किसान उठा रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि गौचर भूमि पर हुए अतिक्रमण चिंता का विषय है। सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा है कि 2 प्रतिशत गौचर भूमि सुरक्षित रहनी चाहिए। इसलिए जरुरी है कि गौचर भूमि को ग्रामवासी खाली न छोड़े। उस पर चारा उठाए और अतिक्रमण से बचाए। इस कार्यक्रम में गौसेवकों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर महाबीर गौशाला समिति के अध्यक्ष रामजीलाल अग्रवाल,पूर्व विधायक स्वरूपचंद जैन,राजकमल सिंघानिया,सीताराम अग्रवाल,रिखब जैन,प्रेमशंकर गौटिया, अजय तिवारी,अमित डोए, ललित सिंघानिया, रामकुमार जी आदि उपस्थित थे।

गौ हॉस्टल बनाने की योजना : बृजमोहन अग्रवाल ने कहा की ऐसी योजना बनाने पर विचार हो रहा है जिसमें गौ माता की सेवा बेहतर ढंग से सामाजिक लोगों के संरक्षण में किया जा सके। हम एक तरह से गौ हॉस्टल की कल्पना कर रहे हैं । जिसमें रहने वाली गौ माता का खर्च समाज के बीच का कोई परिवार उठाएगा। गौ माता अगर दूध देती है तो वह दूध भी उस परिवार तक पहुंचे और दूध नही भी देती है तो उनका चारा आदि का खर्च परिवार उठाए। ऐसी व्यवस्था से भी गौ माता की सेवा की जा सकती है।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *