गुरु, शनि केतु धनु राशि में रहेंगे एक साथ – जाने आपके लिए कैसे रहेंगे ?

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव:

ज्योतिष के नौ ग्रहों के द्वारा हम सभी का जीवन संचालित होता है। हम सभी के जीवन की छोटी-बड़ी सभी घटनाओं में बदलते हुए ग्रहों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। यही कारण है कि किसी एक समय के दो अच्छे मित्र ग्रह, गोचर और दशा बदलने पर शत्रु बन जाते हैं।

वास्तव में देखा जाए तो सभी जीवमात्र उस सर्वशक्तिमान सत्ता के हाथों की कठपुतलियां हैं, जिनमें धागों का कार्य नवग्रह कर रहे हैं। इसलिए धागों की दिशा अर्थात ग्रहों का गोचर बदलने पर जीवन स्वतः बदल जाता है।

कभी एक और कभी एक से अधिक ग्रह वैसे तो प्रत्येक माह अपनी राशि बदलते ही रहते हैं, परन्तु जब एक साथ कई ग्रह राशि परिवर्तन करते हैं, तो परिणाम विशेष प्रभावशाली हो जाते हैं।

गुरु (बृहस्पति) ज्योतिष के नवग्रहों में सबसे अधिक शुभ ग्रह माने जाते हैं। गुरु मुख्य रूप से आध्यात्मिकता को विकसित करने के कारक ग्रह हैं। ये तीर्थ स्थानों, मंदिरों, पवित्र नदियों तथा धार्मिक क्रिया-कलाप से जोड़ते हैं।

साथ ही गुरु ग्रह अध्यापकों, ज्योतिषियों, दार्शनिकों, संतान, जीवन-साथी, धन-सम्पत्ति, शैक्षिक गुरु, बुद्धिमत्ता, शिक्षा, ज्योतिष, तर्क, शिल्पज्ञान, अच्छे गुण, श्रद्धा, त्याग, समृद्धि, धर्म, विश्वास, धार्मिक कार्यों, राजसिक और सम्मान के सूचक ग्रह भी हैं। 05 नवम्बर 2019 के बाद गोचर में धनु राशि में वापसी करने वाले हैं। यहाँ पहले से ही शनि और केतु गोचरस्थ है।

गुरु का धनु राशि में वापस आना विभिन्न राशियों के लिए अलग अलग प्रकार का फल देने वाला रहेगा। आपके लिए यह किस प्रकार का रहना वाला है। आईये जानें-

मेष राशि

गुरु आपके भाग्य भाव पर गोचरस्थ रहेंगे। भाग्य आपका साथ देगा और लक्ष्मी जी आपके घर होंगी। धर्म और अध्यात्म में रूचि बढ़ेगी, संतान सुख मिलेगा, विद्यार्थियों के लिए अच्छा समय है। भाई-बहनों से सम्बन्ध मजबूत होंगे।

अगर आप मेहनत करते हैं तो समाज, परिवार, व्यापार में अच्छे परिवर्तन आएंगे। जिससे आपकी आमदनी बढ़ेगी। यह समय आपके जीवन साथी के लिए भी अच्छा समय है। अधिकारिक शक्तियों का विस्तार होगा। करियर के लिए लाभकारी समय हैं। कार्यस्थल पर मेहनत में कमी न करें, आपको योग्यतानुसार कार्य करने के अवसर प्राप्त होंगे।    

वृषभ राशि

गुरु अक्तूबर से आपके आठवें भाव पर रहेंगे इस समय में आपको अपने सम्मान के प्रति सतर्क रहना होगा। अन्यथा सम्मान की हानि हो सकती है। आपके और पिता के स्वास्थ्य पर कुछ रुपये खर्च हो सकते है। पुराने शत्रु परेशान कर सकते है।

जीवन में अचानक कुछ समस्याए आ सकती है, मगर भाई बहनों से मदद मिलेगी। विदेश जाने में रुकावट दूर होगी दाम्पत्य जीवन में मधुरता बढ़ेगी, कभी कभी कुछ अनबन भी संभव है। स्वास्थ्य भी उत्तम रहेगा। नए मित्रों से पहचान होगी। गुरु भाग्योदय करेंगे। मित्रों का सहयोग, स्वास्थ्य सुख और प्रेम व संतान विषयों में बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे।

मिथुन राशि

गुरु आपके सातवें भाव पर विचरण करेंगे। ऐसे में कोई नया व्यवसाय शुरु करना चाहते हैं तो कर सकते हैं। अविवाहितों के विवाह की प्रतीक्षा पूरी होगी। व्यापारिक यात्राओं के लिए भी समय की शुभता बनी हुई है।

गुरु गोचर में आपको इस विषय में सहायता करेंगे। गुरु प्रभाव से परिवार में कोई नया सदस्य आने का संकेत दे रहे हैं। माता को स्वास्थ्य सुख, शुभ कार्यों पर व्यय, कुटुम्ब में स्नेह की स्थिति रहेगी।

कर्क राशि

गुरु आपके छ्ठे भाव पर गोचर करने लगेंगे। ऐसे में मामा मौसी से लाभ मिलेगा। माता पिता किसी धार्मिक यात्रा पर जा सकते है। प्रॉपर्टी को लेकर कोई परेशानी है तो वह ठीक हो जाएगी। संतान को धन लाभ हो सकता है, नए काम से नई पहचान मिलेगी।

शत्रुओ से संभलकर रहे। कर्ज से भी धीरे धीरे छुटकारा मिलेगा और कर्ज धीरे-धीरे कम होगा। नवम्बर एवं दिसम्बर मास में व्यापार का विस्तार, मान-सम्मान में वृद्धि, जीवन साथी का सहयोग, साझेदारी में अनुकूलता देगा और आय-लाभ से जुड़े क्षेत्रों में पहले से बेहतर परिणाम देगा।

सिंह राशि

गुरु आपके पंचम भाव पर गोचर करने लगेंगे। यह आपको आकस्मिक लाभ देंगे। आय अच्छी रहेगी। संतान की प्रगति होगी। जो संतान चाहते है उनके लिए यह समय ठीक है। भाग्य आपका साथ देगा। विद्यार्थियों का पढाई में मन लगेगा। प्रेम का जीवन में आगमन होगा, रुके हुए कार्य गति पकड़ेंगे, आय में बढ़ोतरी होगी, शेयर बाजार से लाभ होगा। रोगों की अधिकता रहेगी। ॠण और उधार लेन-देन के कार्य किए जा सकते हैं। विरोधी प्रबल बने हुए हैं। पारिवारिक मामलों को कोर्ट कचहरी में ले जाने से बचें। कारोबार के लिए समय उत्तम, लाभ के नवीन क्षेत्रों की तलाश पूर्ण होगी।

कन्या राशि

गुरु आपके चतुर्थ भाव पर आ जायेंगे। इस स्थिति में माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पिता के लिए शुभ समय है उनका मान-सम्मान बढ़ेगा। आपके घर धार्मिक पूजा कार्य होंगे। सम्मानीय लोगों का आपके घर आना जाना रहेगा।

चौथे भाव का गुरु स्थान परिवर्तन करा सकता है। भूमि लेने से पहले सभी भूमि के दस्तावेजों की जांच कर लें। पदोन्नति, करियर में उन्नति, धार्मिक यात्राएं, भाग्य का सहयोग, दीर्घकालीन रोगों से मुक्ति मिलेगी।

तुला राशि

गुरु आपके तीसरे भाव पर रहेंगे। जिसके कारण आपके अपने छोटे-भाई बहनों से कुछ मन-मुटाव हो सकते हैं। कार्यों में भाग्य का सहयोग प्राप्त होगा। वैवाहिक जीवन का प्रारम्भ, नए साझेदारी कार्य शुरु किए जा सकते हैं। बड़े भाईय़ों से रिश्ते मजबूत होंगे।

गाडी चलाते समय सावधान रहे। नए रिश्ते, नए दोस्त, नए पड़ोसी बन सकते हैं। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ाएगी, भाग्य में अचानक से उतार चढ़ाव की स्थिति, सुख-शांति की प्राप्ति। प्रेमी मित्रों के लिए उत्तम समय और माध्यमिक स्तर के छात्रों को शिक्षा में मनोनूकुल परिणाम प्राप्त होंगे।

वृश्चिक राशि

गुरु अक्तूबर माह के प्रथम सप्ताह से दूसरे भाव पर गोचर करने लगेंगे। जिस कारण आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा। परिवार में मधुरता बानी रहेगी। नये कार्य होंगे परिवार ने नये सदस्य या संतान के योग बनेंगे। अटके हुए कार्य पूर्ण होंगे। माता का साथ रहेगा। भूमि में फायदा रहेगा अर्थात धन कमाई में अच्छा समय रहेगा। वाणी में मिठास आएगी।

मित्रों में वृद्धि, व्यापार-व्यवसाय के लिए अनुकूल समय, अपना कार्य शुरु कर सकते हैं। आय बेहतर होगी और दूरस्थ यात्रा के अवसर बनेंगे। यदि आप शादी के बंधन में बंधना चाहते है तो निश्चय ही आपके लिए अनुकूल समय है।

धनु राशि

संतान प्राप्ति की प्रतिक्षा समाप्त होगी, अध्ययनरत छात्रों को आगे बढ़ने के अवसर प्राप्त होंगे। दांपत्य जीवन में स्नेह व सहयोग बना रहेगा, नया व्यापार शुरु किया जा सकता हैं। धर्म-कर्म से संबंधित गतिविधियों में बढ़-चढ़ कर भाग लेंगे। धन प्रवाह में सुधार होगा। स्वयं में नई ऊर्जा के संचार का अनुभव करेंगे।

संतान का स्नेह मिलेगा और भविष्य से संबंधित योजनाओं पर विचार करेंगे। धन संचय में कमी, कुटूम्ब में मतभेद और शेयर बाजार में धन विनियोजन से हानि करा सकती हैं। धन विनियोजन और ॠण से जुड़े कार्य इस समय में किए जा सकते हैं।

मकर राशि

गुरु साल के उत्तरार्द्ध में राशि परिवर्तित कर आपके बारहवें भाव पर गोचर करने लगेंगे। जिस कारण कुछ समस्या आ सकती है व खर्च अधिक होंगे। संतान, परिवार, धार्मिक कार्य, ऐशो आराम पर अधिक खर्चे होंगे। धन कमाने हेतु घर से दूर जाना पड़ सकता है। मेहनत अधिक करनी होगी तभी भाग्य साथ देगा। तनाव और चिंता की स्थिति रहेगी।

नैनिहाल से रिश्ते मजबूत होंगे। दांपत्य जीवन में चल रहे विवादों का समाधान निकलेंगा। यात्राओं के कार्यक्रम बनेंगे। विवाहयोग्य जातकों की कामना पूर्ण होगी। शैक्षिक क्षेत्र में मनोनूकुल फल प्राप्त होंगे। परिवार से बनाकर रखें। कार्य सहजता से पूरे होंगे। व्यापार-व्यवसाय में उन्नति और सेहत में सुधार होगा।

कुम्भ राशि

यह समय अच्छा रहेगा। सरकारी नौकरी में पदोन्नति के अवसर बनेंगे। भाई-बहन, मित्र, पडोसियों से सम्बन्ध मधुर बनेंगे। दाम्पत्य जीवन सुखद रहेगा। संतान की तरक्की से खुशखबरी मिल सकती है। यात्रा शुभ रहेगी। नए मित्र बनेंगे जो आपके लिए अच्छे रहेंगे।

शेयर बाजार में रुके हुए पैसे से अब लाभ हो सकता है। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। स्वास्थ्य सुख में कमी रहेगी। मित्रों के साथ यात्रा के अवसर बनेंगे। माता के स्वास्थ्य मंं सुधार होगा। लम्बी यात्राओं के योग बनेंगे। अत्यधिक व्यय की स्थिति बनी हुई है।

मीन राशि

गुरु आपके कर्मभाव पर गोचर करने लगेंगे। कार्यक्षेत्र में कुछ परेशानी आ सकती है। सरकारी नौकरी वालों की पदोन्नति संभावित है। साथ ही स्थान परिवर्तन हो सकता है। नए रोजगार मिलेंगे। राजकीय लोगों के लिए समय अच्छा रहेंगे। मकान वाहन के योग है। कही अगर धन रुका हुआ है तो वह धीरे-धीरे मिलना शुरू हो जाएगा घर की साज-सज्जा पर खर्च होंगे।

आय के नए साधन प्राप्त होंगे। दांपत्य जीवन में सुख-शांति की स्थिति और प्रेम विषयों में स्नेह की स्थिति बनी हुई है। संतान की ओर से कोई शुभ सूचना प्राप्त होगी। माता के स्वास्थ्य की हानि हो सकती हैं।

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री
8178677715 , 9811598848

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है. कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं।

आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं।

जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋण और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा, विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

Back to top button