गुरुग्राम के कमिश्नर केके राव ने किया दावा, साल 2018 में क्राइम का ग्राफ गिरा

जिस पर गुरुग्राम पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से काम किया और साल 2018 में चोरी होने वाले वाहनों की संख्या घटकर 1400 हो गई.

गुरुग्राम की स्मार्ट पुलिस और उसके स्मार्ट तरीके का दावा करते हुए पुलिस कमिश्नर केके राव ने दावा किया कि साल 2017 की तुलना में साल 2018 में गुरुग्राम में क्राइम ग्राफ नीचे आया है.

गुरुग्राम पुलिस को एक साल में 33 हजार 113 शिकायतें मिलीं, जिनमें से 30 हजार शिकायतों का निपटारा कर दिया गया. साल 2017 में लूट की 96 वारदातें सामने आई थीं,

जबकि साल 2018 में ये आंकड़ा 40 ही रहा. हालांकि महिलाओं और बच्चों के खिलाफ यौन अपराध के मामलों में इजाफा हुआ है.

इसके अलावा लगातार वाहन चोरी की जो वारदात बढ़ रही थी, उसमें भी काफी नकेल कसी गई है. साल 2017 में 1600 वाहन चोरी के मामले सामने आए थे,

जिस पर गुरुग्राम पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से काम किया और साल 2018 में चोरी होने वाले वाहनों की संख्या घटकर 1400 हो गई.

गुरुग्राम में ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के मामले भी काफी हैं. इस पर काम करते हुए गुरुग्राम पुलिस सबसे ज्यादा 13 लाख के करीब चालान काटे, तो दूसरी तरफ सड़क दुर्घटनाओं को भी रोकने में कामयाबी हासिल की.

जहां साल 2017 में 1214 सड़क दुर्घटनाएं देखने को मिली थीं, वहां साल 2018 में सड़क दुर्घटनाओं के एक हजार से भी कम मामले सामने आए है.

साल 2017 में 1214 सड़क दुर्घटनाओं में 481 लोगों की जान बचाने में कामयाबी मिली थी. साल 2018 में दुर्घटनाओं में कमी आने से साफ है

कि ट्रैफिक को लेकर शुरू किए गए अभियान से सड़क हादसों को रोकने में काफी मदद मिली है. वहीं, अब जवानों की संख्या को भी बढ़ाया गया है.

इसके अलावा गुरुग्राम पुलिस का यह भी दावा है कि महिला उत्पीड़न के मामलों में भी कमी है.

इतना ही नहीं, The Protection of Children from Sexual Offences (POCSO) Act के तहत दर्ज किए मामलों में गुरुग्राम पुलिस ने साल 2018 में सभी मामलों में आरोपियों को 2 दिन से भी कम समय में गिरफ्तार किया है.

इसके अतिरिक्त गुरुग्राम में क्राइम का जो ग्राफ बढ़ रहा था, उसे पुलिस ने कम किया है. अब इसको और कम करने के लिए भी काम किया जा रहा है.

गुरुग्राम पुलिस को स्मार्ट करने के लिए अब व्यवहारिक क्लास भी पुलिस के जवानों को दी जाएंगी. इससे पुलिस के जवानों को तनाव से दूर रखने में मदद मिलेगी.

साथ ही लोगों का पुलिस पर विश्वास भी बढ़ेगा. पुलिस के जवानों के लिए मास्क और ट्रांसपोर्ट की जो परेशानी है, उसे भी दूर किया जा रहा है

और साल 2019 में गुरुग्राम पुलिस नए और शानदार अंदाज में नजर आएगी. इसके अलावा क्राइम को भी कंट्रोल करने के लिए साल 2019 में पुलिस नई रणनीति के तहत काम करेगी.

सबसे अमीर पुलिस बनी गुरुग्राम पुलिस

गुरुग्राम पुलिस स्मार्ट पुलिस बनने के साथ ही सबसे अमीर पुलिस भी बन गई है. ट्रैफिक नियमों को पाठ पढ़ाने के लिए गुरुग्राम पुलिस ने एक साल में रिकॉर्ड चालान काटे है.

गुरुग्राम पुलिस ने एक साल में 13 लाख 50 हजार चालान काटकर सरकारी खाते में 23 करोड़ रुपये जमा किए. गुरुग्राम पुलिस ने एक साल में इतने चालान काटने के बाद दिल्ली को भी पीछे छोड़ दिया है.

advt
Back to top button