गुरुकुल महाविद्यालय वार्षिकोत्सव: स्टूडेंट्स की जादुई आवाज ने सबको किया मंत्रमुग्ध

छात्राओं ने एक से बढ़कर एक पुराने एवं नए गाने गाकर समां बांधा

रायपुर :राजधानी के गुरुकुल महिला महाविद्यालय कालीबाड़ी में वर्ष 2018 वार्षिक उत्सव के अंतर्गत आज रंगमंदिर में एकल गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में डॉ संध्या गुप्ता मौजूद थी। गायन प्रतियोगिताओं के सभी प्रतिभागियों ने बहुत ही खूबसूरती से अपनी परफॉर्मेंस दी।एकल एवं समूह गायन में छात्राओं ने एक से बढ़कर एक पुराने एवं नए गाने गाकर समां बांधा ।

प्रतियोगिता की शुरुआत पूनम मिश्रा के गाने मुड़ के ना देखो दिलबरो से हुई। नीलम पटेल ने उनसे मिली नजर, किरण वर्मा ने थोड़ी देर और ठहर जा,मुस्कान अंसारी ने ले जा ले जा रे, कविता सिक्का ने ओ ओ जाने जाना, हेमलता पटेल ने मुस्कुराने की वजह तुम हो, सिंधु सोंन ने लग जागले के फिर एवं दामिनी श्रीवास ने अरपा पैरी के धार पर अपनी प्रस्तुति दी।

सविता विश्वकर्मा के छत्तीसगढी टूरा नई जाने रे, राजा राजविंदर कौर के पंजाबी गाने एक मेरा दिल, सूर्यांशी मिश्रा के तेरे जैसा यार कहां के गानों ने कार्यक्रम में जान डाल दी ।

समूह गायन प्रतियोगिता में आरती एंड ग्रुप के छत्तीसगढ़ी सुआ गीत, नीलम एंड ग्रुप के छत्तीसगढ़ी गाने ससुराल गेंदा फूल एवं बीसीए प्रथम वर्ष के सी हैश ग्रुप ने स्वयं का कंपोज गाना हम तो आए थे कुछ बन जाने जैसे गाने पर अपनी प्रस्तुति दी ।

मैलोडी एवं रिदम में म्यूजिक ग्रुप ग्रे नोटस से खगेश कुमार एवं साथियों के गानों से महाविद्यालय की छात्राएं बहुत ही आकर्षित हुई। निर्णायक मंडल में कमला देवी संगीत महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डॉ . राम मूर्ति एवं महाविद्यालय के प्राध्यापक दीपिशिखा शर्मा एवं डॉ अनुराधा गुप्ता रहे|

कार्यक्रम के प्रभारी प्राध्यापक शुभांगी दुबे, सीमा साहू,मोनिका साहू, आकांक्षा राठौर एवं देवश्री वर्मा रहे ।

ऐसा रहा परिणाम

एकल गायन:


प्रथम सिंधु सोंन , लग जा गले से बीसीए प्रथम वर्ष.


द्वितीय नीलम पटेल ,उनसे मिली नजर बीएससी तृतीय वर्ष


तृतीय दामिनी श्रीवास, अरपा पैरी के धार पीजीडीसीए

समूह गायन:


प्रथम- नीलम एंड ग्रुप ससुराल गेंदा फूल बीएससी तृतीय वर्ष


दितीय- हैश सी ग्रुप हम तो आए थे कुछ बन जाने बीसीए प्रथम वर्ष

तृतीय – दुर्गा एंड ग्रुप मुरली बजाए बीएससी प्रथम वर्ष

Back to top button