छत्तीसगढ़

बाबा गुरू घासीदास के नाम पर गिरौदपुरी में खोला जाएगा गुरूकुल शिक्षा केन्द्र: भूपेश

नवनिर्वाचित विधायकों का सम्मान बाबा के बताए रास्ते पर चलकर करेंगे छत्तीसगढ़ का सर्वांगीण विकास

आलोक मिश्रा

बलौदाबाजार। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तपोभूमि गिरौदपुरी धाम में बाबा गुरू घासीदास के नाम पर गुरूकुल शिक्षा केन्द्र खोलने की घोषणा की है। बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की नई सरकार गुरूबाबा के बताए मार्ग पर चलकर पूरी ताकत के साथ राज्य के विकास की कमान संभाल ली है।

मुख्यमंत्री आज गिरौदपुरी में छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज द्वारा अनुसूचित जाति के नवनिर्वाचित विधायकों के सम्मान समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से सम्बोधित कर रहे थे।

बघेल ने सतनाम पंथ के धर्मगुरूओं और राजमहंतों के साथ गुरू गद्दी पर मत्था टेंका और और राज्य की समृद्धि और खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा। इस मौके पर धर्मगुरू बालदास साहेब, लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्रकुमार, शहरी विकास एवं श्रम मंत्री शिव डहरिया, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल भी उपस्थित थे।

बाबा घासीदास के संदेश हमारी सरकार के लिए मार्गदर्शी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समारोह में कहा कि बाबा घासीदास के संदेश हमारी सरकार के लिए काम करने का मार्गदर्शी आधार होगा। उनके सत्य के रास्ते पर चलने के उपदेश को आधार मानकर ही झीरम घाटी नरसंहार की फिर से जांच करने का निर्णय लिया और इसके लिए एसआईटी गठित की गई।

किसानों के हित में लिया पहला निर्णय

बघेल ने कहा कि नई सरकार को लेकर जनता में काफी उत्साह है। यह राज्य की पहली ऐसी सरकार है, जिसमें छत्तीसगढ़ के सभी समूहों की भागीदारी है। राज्य सरकार ने अपने गठन के बाद पहला निर्णय किसानों के हित में लिया।

उनके कर्ज माफ करने के साथ ही धान की खरीदी 2500 रूपए में होने लगी है। बाबा के बताए रास्ते पर चलकर ही गांवों का विकास करना है। गौसंवर्धन को बढ़ावा देना है। बाबाजी ने दोपहर की तपती गर्मी में बैलों से नांगर नहीं फांदने का उपदेश दिया।

वे जीव-जन्तु को होने वाले कष्ट से वाकिफ थे और उनके प्रति प्रेम करते थे। राज्य सरकार भी गरूआ और घुरवा के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है। गांवों में चराने के लिए अलग से दैहान विकसित किया जाएगा ताकि गाय-गरू को भरपेट भोजन मिल सके।

राज्य सरकार शराबबंदी के लिए वचनबद्ध

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि राज्य सरकार शराबबंदी के लिए वचनबद्ध है। लेकिन इसे बंद करने के लिए जोर-जबरदस्ती से और अकस्मात तरीके से नहीं बल्कि समाज मंे जागरूकता फैलाकर इसके लिए उनकी सहमति बनाया जाएगा।

समाज स्वयं होकर शराब की बुराईयों को समझेगा और रोकने के लिए सामने आएगा। उन्होंने कहा कि राज्य में दारू नहीं बल्कि दूध की नदियां बहेगी। उन्होंने कहा कि नौजवान पीढ़ी का भविष्य शराब सेवन से खराब होता है।

राज्य की जनता को नई सरकार से आशाएं

बघेल ने कहा कि राज्य के जनता की नई सरकार के प्रति काफी आशाएं है। घोषणा पत्र में हमने जो भी वादाएं हमने की हैं, वे सभी पूरी की जाएगी। गुरू बाबा घासीदास के आशीर्वाद से हम सभी घोषणाओं को पूर्ण करने में सक्षम होंगे।

समारोह को नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिव डहरिया ने भी सम्बोधित किया। स्थानीय विधायक चंद्रदेव राय ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बाबा की तपोभूमि में गरीब बच्चों की गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा के लिए गुरूकुल शिक्षा संस्थान खोलने की मांग की।

नवनिर्वाचित विधायकों और मंत्रियों का सम्मान

उन्होंने किसानों की कर्जमाफी और 2500 रूपए में धान खरीदी निर्णय के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति आभार प्रकट किया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर छत्तीसगढ़ प्रगतिशील सतनामी समाज की ओर से अनुसूचित जाति वर्ग के नवनिर्वाचित विधायकों और मंत्रियों का सम्मान किया।

इनमें मंत्री शिव कुमार डहरिया, मंत्री गुरू रूद्रकुमार, विधायक बिलाईगढ़ चंद्रदेव राय, विधायक डोंगरगढ़ भुनेश्वर बघेल, विधायक नवागढ़ गुरूदयाल बंजारे शामिल हैं।

इस अवसर पर धर्मगुरू युवराज खुशवंत साहेब, कसडोल विधायक शकुन्तला साहू, जिला कलेक्टर जेपी पाठक, एसपी प्रशांत अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में प्रदेश भर से आए सतनामी समाज के राजमहंत, पदाधिकारी और समाज के लोग उपस्थित थे। मुख्यमंत्री सहित अतिथियों के आगमन परम्परागत पंथी नृत्य दलों के माध्यम से शानदार स्वागत किया गया।

Summary
Review Date
Reviewed Item
बाबा गुरू घासीदास के नाम पर गिरौदपुरी में खोला जाएगा गुरूकुल शिक्षा केन्द्र: भूपेश
Author Rating
51star1star1star1star1star
congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags
Back to top button