छत्तीसगढ़

झोलाछाप डॉक्टर खेल रहे मरीजों की जान से – सामान्य इलाज से डिलीवरी

रितेश गुप्ता

पसान एवं आसपास ग्रामों में झोलाछाप डाॅक्टरों का मकड़जाल फैला हुआ है, हर गांव में करीब कई अवैध निजी क्लीनिक संचालित हैं.

पसान एवं आसपास गाँव में झोलाछाप डाॅक्टरों का मकड़जाल फैला हुआ है, ग्राम पसान में कई अवैध निजी क्लीनिक संचालित हैं। इन क्लीनिकों में मौसमी बीमारियों के इलाज से लेकर बाकायदा डिलीवरी तक से लेकर पथरी तक का इलाज किया जाता हैं।

एक अनुमान के मुताबिक लगातार झोलाछाप डॉक्टर पसान एवं आसपास से आने वाले मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं, फिर भी इन पर प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है।

आलम यह है कि ऐसे क्लीनिक में ऑपरेशन भी कराई जा रही है, जबकि न तो विशेषज्ञ चिकित्सक हैं न दक्ष नर्सिंग स्टाफ। बिना डिग्री के ये डॉक्टर विभिन्न गंभीर बीमारियों का इलाज तक कर रहे हैं मरीजों से मोटी रकम वसूल रहे हैं। खास बात यह है कि गोरखधंधा प्रशासन की नाक के नीचे खुले आम हो रहा है लेकिन कोई भी अधिकारी इन पर उचित कार्रवाई नहीं कर रहा है।

झोलाछाप डॉक्टरों के पास ये डिग्रिया

झोलाछाप डॉक्टरों के पास ये डिग्रियां होती हैं : आरएमपी, एमडीबी, एएमएस (अल्टरनेटिव), बीवाईपीएस (बायोकेमिकल), वीईएचएमएस (इलेक्ट्रो होम्योपैथी)। ये सारी डिग्रियां फर्जी की श्रेणी में आती है।

ग्राम पसान में निजी प्रैक्टिस कर रहे डाॅ. ने नाम नही‌ं छापने कि शर्त पर बताया कि विगत 10 वर्षों से हमें किसी अधिकारी ने कुछ नहीं कहा है और न ही शासन ने हम पर कोई कार्रवाई की है। उन्होंने बताया कि गांव के पास लाहोद में उप स्वास्थ्य केंद्र होने के बावजूद लोग हमारे पास इलाज के लिए आते हैं। वहीं मरीजों का कहना है कि उप स्वास्थ्य केन्द्र में बुनियादी सुविधाएं नहीं हैं, जिससे उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

Tags
Back to top button