पुलिस और आम लोगों पर हमले में शामिल था हमीद ललहारी -DGP दिलबाग सिंह

आतंकी मुठभेड़ पर आज जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुई आतंकी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने अंसार गजवत-उल-हिंद के चीफ आतंकी हमीद ललहारी को मार गिराया गया है. जिस पर जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि हमीद के साथ दो और आतंकियों नावेद भट्ट और जुनैत भी मारे गए हैं. इनके पास से 3 एके 47 मिली है.’

आतंकी मुठभेड़ पर आज जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि अंसार गजवत-उल-हिंद के चीफ आतंकी हमीद ललहारी पुलवामा और शोपियां में पुलिस और आम लोगों पर हमले में शामिल था.

डीजीपी ने बताया, ‘नवीद, जुनैद और हमीद तीनों पुलवामा के रहने वाले हैं औऱ जैश के साथ काम कर रहे थे. 2016 में हमीद एक्टिव हुआ था. इसने काफी लोगों को आतंकी गतिविधियं में शामिल किया.

डीजीपी ने जम्मू कश्मीर के नौजवानों से आतंक का रास्ता नहीं अपनाने की सलाह देते हुए कहा, ‘हथियार मौत का ज़रिया है औऱ अपने लिए ही मौत का माहौल पैदा करता है. मूसा के रहते भी कम नुकसान नहीं हुआ था. लोकल यूथ आतंक का हाथ छोड़े तभी हालात सुधरेंगे. 5-6 युवा ही लापता हैं. अब लेकिन ये ज़रुरी नहीं कि वह युवा आतंकी गतिविधियों में शामिल हों.

डीजीपी दिलबाग सिंह ने पाकिस्तान पर हमला करते हुए कहा, ‘जम्मू कश्मीर में आतंकी वारदातों में कमी से पाकिस्तान को बौखलाहट हो रही है, सीज़फायर का सिलसिला अभी भी जारी है. उनकी आर्मी इसमें पूरी तरह से इन्वॉल्व है कि ज्यादा से ज्यादा आतंकियों को यहां के लिए पुश किया जाए औऱ घुसपैठ कराई जाए.’

मूसा की मौत पर पुलिस प्रवक्ता ने कहा, “पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, मूसा 2013 के बाद से आतंकवाद से जुड़ा था उसका आतंकी अपराध रिकॉर्ड का एक लंबा इतिहास था. वह शुरू में आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़ा था, लेकिन बाद में उसने नया संगठन बनाया.”

Back to top button