मेहनत और जनता के पैसे की बर्बादी, सुंदर आकृतियों पर कर दी सफेदी

इसे मिटाकर फिर से बेहतर पेंटिंग्स बनाई जा रही है। दरअसल, पिछले पंद्रह दिनों से महू रेलवे स्टेशन को सुंदर बनाया जा रहा था।

कल तक जिस रेलवे स्टेशन की भीतरी दीवारों को सुंदर आकृतियों से खूबसूरत बनाया जा रहा था, उस पर एक आदेश के बाद सफेद पेंट पोता जा रहा है। कलाकारों की 15 दिन की मेहनत और जनता के पैसे की बर्बादी का कारण भी बड़ा अजीब है।

इस मामले में रतलाम रेल मंडल के डीआरएम आरएन सुनकर ने कहा कि आंबेडकर नगर स्टेशन पर आंबेडकरजी के चित्र के नीचे पेंटिंग्स बनाई गई थी। वह इतनी आकर्षक नहीं थी।

इसे मिटाकर फिर से बेहतर पेंटिंग्स बनाई जा रही है। दरअसल, पिछले पंद्रह दिनों से महू रेलवे स्टेशन को सुंदर बनाया जा रहा था। 25 दिसंबर से महू-कालाकुंड के बीच हेरिटेज रेल आरंभ की जाना है।

इसे लेकर स्टेशन की अंदरूनी दीवारों पर जंगल की तस्वीर तथा जानवरों के चित्र बनाए गए थे। इंदौर के आठ कलाकारों ने दिनरात मेहनत कर स्टेशन की 220 बाय 15 दीवारों को सजा दिया था।

यात्री भी चित्रकारी की खुलकर प्रशंसा कर रहे थे। शनिवार दोपहर कलाकारों के पास अचानक वरिष्ठ अधिकारियों का आदेश आया और पेंटिंग बंद कर सफेदी पोती जाने लगी।

पहले हुई प्रशंसा

कलाकारों के मुताबिक, इसके फोटो वरिष्ठ अधिकारियों को भेजे गए थे। उन्होंने तारीफ की थी। शनिवार को आए आदेश से इन्हें मिटाना पड़ा। हमें पहले न तो कोई चित्र दिया गया था, न ही योजना बताई गई थी।

इंदौर में भी फिर से बनवाई

नगर निगम द्वारा शहर के कई हिस्सों में दीवारों पर खूबसूरत पेटिंग बनवाई जाने की कड़ी में इंदौर सेंट्रल जेल की दीवार पर देवी अहिल्या बाई की पेंटिंग बनाई गई थी। पेंटिंग को लेकर कुछ लोगों द्वारा संज्ञान दिलाने के बाद निगम ने उस मटाकर दोबारा तस्वीर बनवाई।<>

 

Back to top button