राजनीतिराष्ट्रीय

उपसभापति चुनाव में भी भारी पड़ा मोदी-शाह का दांव, कांग्रेस का समीकरण हुआ फेल

हरिवंश नारायण सिंह को मिले 122 मत, बीके हरिप्रसाद को मिले 98 मत

नई दिल्ली।

राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के प्रत्याशी हरिवंश नारायण सिंह जीत गए हैं। राज्यसभा उपसभापति पद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजग उम्मीदवार के लिए विपक्ष में सेंधमारी करके कई दलों का समर्थन हासिल कर लिया। इससे कांग्रेस का समीकरण पूरी तरह से बिगड़ गया।

हरिवंश नारायण सिंह की जीत पर पीएम मोदी ने बधाई दी। उन्होंने कहा कि हरिवंश जी कलम के धनी हैं और वह पू्व पीएम चंद्रशेखर के चहेते रहे हैं। जहां राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की तरफ से जद(यू) के राज्यसभा सांसद हरिवंश नारायण सिंह उम्मीदवार थे वहीं विपक्ष ने कांग्रेस के सांसद बीके हरिप्रसाद को मैदान में उतारा था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने राजग के सहयोगी दलों को साधकर साथ में रखने के साथ-साथ विपक्ष के कई दलों का समर्थन हासिल किया। हरिवंश को राजग से बाहर के दलों ने भी अपना समर्थन देने की घोषणा की। गठबंधन राज्यसभा में जादुई आंकड़े से कम थी। इस चुनाव में बीजू जनता दल के 9 सांसद किंग मेकर की भूमिका में थे।

राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव की घोषणा के बाद पीएम मोदी और जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नवीन पटनायक से फोन पर बात कर राजग के उम्मीदवार हरिवंश के लिए समर्थन मांगा। तब तक विपक्ष अपना उम्मीदवार तय ही नहीं कर पाया था। इसका नतीजा हुआ कि राजग विपक्ष में सेंध लगाने में कामयाब हो गया।

समाजवादी पार्टी का कहना है कि अगर आम राय बनती तो बेहतर होता। दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी ने कहा कि नीतीश कुमार ने अरविंद केजरीवाल को फोन करके राजग उम्मीदवार हरिवंश के समर्थन मांगा, लेकिन भाजपा के साथ होने के चलते आम आदमी पार्टी ने उनका समर्थन नहीं किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अरविंद केजरीवाल से बात करते तो ‘आप’ विपक्ष के प्रत्याशी बीके ​हरिप्रसाद का समर्थन करती लेकिन राहुल के बात न करने की वजह से अब वोटिंग से बाहर रहने का का फैसला किया।

बता दें कि हाल ही में सेवानिवृत्त हुए उपसभापति पी. जे. कुरियन का कार्यकाल पिछले महीने यानी जुलाई में समाप्त हो गया था। 245 सदस्यीय राज्यसभा में इस समय 244 सदस्य हैं जबकि 1 सीट खाली है। मौजूदा 244 सदस्यीय उच्च सदन में उपसभापति चुनाव को जीतने के लिए 123 मतों की जरूरत थी।

Tags
Back to top button